मेरठ, जेएनएन। शहर को सुधारने व निवेश योग्य बनाने के लिए योगी सरकार मेरठ का सिटी डेवलपमेंट प्लान तैयार कराने जा रही है। इसके लिए ई-टेंडर आमंत्रित किया गया है। जिसके लिए कंपनियों के लिए ई-टेंडर की प्रक्रिया के तहत 21 सितंबर को टेक्निकल बिड खोली जाएगी। 25 सितंबर को फाइनेंसियल बिड खुलेगी। दोबारा टेंडर प्रक्रिया में टेक्निकल बिड खोलने की तिथि 13 सितंबर रखी गई थी, लेकिन तिथि बाद में बढ़ा दी गई थी।

वैसे तो इसके लिए पहले भी टेंडर प्रक्रिया अपनाई गई थी। पहली टेंडर प्रक्रिया इसलिए रद कर दी गई थी कि कंपनियों ने सिटी डेवलपमेंट प्लान तैयार करने के लिए ज्यादा धनराशि मांगी थी। एमडीए से कई बार वार्ता के बाद भी धनराशि कम नहीं की थी। इसमें ली एसोसिएट्स ने तकनीकी बिड में ज्यादा अंक पाने के कारण बढ़त बना ली थी। जबकि मीनहर्ट कंपनी तकनीकी बिड में दूसरे नंबर पर थी। ली एसोसिएट्स ने पांच करोड़ रुपये मांगे थे, जिसे चार करोड़ तक लाने की वार्ता चल रही थी लेकिन इस पर ली कंपनी तैयार नहीं हुई। बहरहाल, अब फिर से टेंडर प्रक्रिया अपनाई गई है। इसके लिए कुछ कंपनियों ने क्वेरी भी की है। इसमें कंपनियों ने एमडीए से कहा है कि एमडीए ने 25 सप्ताह में प्रस्ताव तैयार करने की बात कही है जबकि अन्य शहरों ने 22 सप्ताह का समय दिया है। ऐसे ही अन्य समाधान कंपनियों ने चाहा है।

क्या होगा इस प्लान में

-सिटी डेवलपमेंट प्लान के तहत कंपनियों को प्रत्येक सरकारी विभाग के लिए प्रस्ताव तैयार करना है।

-इस प्रस्ताव में कंपनी यह बताएगी कि संबंधित विभाग शहर में ऐसा क्या करे जिससे बड़ा बदलाव दिखाई दे।

-जल निकासी, सीवेज, कूड़ा निस्तारण का भी इसमें प्रस्ताव शामिल रहेगा।

-हस्तिनापुर व सरधना को भी इस प्लान में शामिल किया गया है।

-उद्याेग व पर्यटन के लिहाज से भी इसमें प्रस्ताव शामिल होंगे।

-इस प्रस्ताव को शासन को भेजा जाएगा।

-फिर शासन अपने स्तर से इन प्रस्तावों पर कार्य कराएगा।

 

Edited By: Taruna Tayal