मेरठ, जेएनएन। सिख धर्म के दसवें पातशाह गुरु गोबिद सिंह का प्रकाश पर्व बुधवार को श्रद्धा से मनाया गया। हस्तिनापुर स्थित पंज प्यारे भाई धर्म सिंह जी गुरुद्वारा साहिब में उमड़ी भीड़ को रागी जत्थों ने शब्द कीर्तन कर संगतों को निहाल किया।

कस्बे स्थित पंज प्यारे भाई धर्म गुरुद्वारा साहिब में गुरु गोबिद सिंह के प्रकाशोत्सव पर कीर्तन और लंगर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत गुरुद्वारा साहिब में तीन दिन पूर्व रखे गए अखंड पाठ साहिब की संपूर्णता पर भोग के साथ हुई। इससे पूर्व नगर में प्रात: के समय प्रभात फेरी निकाली गई। गुरुद्वारा साहिब परिसर में सजे विशाल कीर्तन दरबार में रागी जत्थों ने मधुर गुरुवाणी के साथ सिखों की देश धर्म की रक्षा का गुणगान कर संगत को निहाल किया।

गुरुद्वारा साहिब कमेटी के प्रधान भूपेंद्र सिंह ने गुरु गोबिद सिंह जी की वीरता का बखान किया। हरजीत सिंह साहनी ने कहा कि सतगुरु गोबिद सिंह जी ने विदेशी ताकतों को देश से बाहर निकालने में पूरा जीवन लगा दिया। उन्होंने देश धर्म की रक्षा के लिए आनंदपुर साहिब में खालसा पंथ की स्थापना की। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी आगे आकर देश-धर्म की रक्षा करनी चाहिए और गुरुओं के बताए मार्ग पर चलना चाहिए। इस मौके पर सरदार अर्जुन सिंह, प्रेम सिंह, धन्ना सिंह, प्रभु सिंह समेत सभी संगतों का सहयोग रहा।

गुरु गोविद सिंह को याद किया

: शिवनगर स्थित गुरु सिंह सभा गुरुद्वारे में बुधवार को सिखों के 10वें गुरु गुरु गोविद सिंह की जयंती पर धर्मप्रेमियों में उल्लास छाया रहा। सिख समाज की ओर से गुरुद्वारे में अरदास लगाई गई। जत्थे ने शबद कीर्तन कर संगत को निहाल कर दिया। भाजपा महानगर अध्यक्ष मुकेश सिघल ने गुरु गोविद सिंह के जीवन पर विस्तारपूर्वक प्रकाश डाला। इस दौरान भाजपा नेता गुरुशरण सिंह, गौरव मलिक, रविद्र शर्मा, एसपीएस जग्गी, जेएस जौहर, बलजीत सिंह, नरेंद्र सिंह आदि मौजूद रहे।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप