मेरठ । लोकसभा चुनाव की तैयारी जोरों पर हैं। रविवार से पीठासीन एवं प्रथम मतदान अधिकारियों का ईवीएम, वीवीपैट एवं सैद्धांतिक प्रशिक्षण शुरू हो गया। हालांकि पहले दिन दो सौ से अधिक अधिकारी गैरहाजिर रहे। सीडीओ आर्यका अखौरी ने 25 मार्च को उपस्थित न होने पर सभी के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने की चेतावनी दी है। उधर, प्रशिक्षण 27 मार्च तक चलेगा।

मेरठ में 11 अप्रैल को मतदान है। इसके लिए जिले में तैनात किए गए पीठासीन एवं प्रथम मतदान अधिकारियों का रविवार से प्रशिक्षण शुरू हुआ है। प्रशिक्षण सनातन धर्म इंटर कालेज सदर में दो शिफ्टों में शुरू किया गया है। पहली शिफ्ट सुबह नौ बजे से दोपहर 12 बजे व दूसरी दोपहर एक से शाम चार बजे तक है। रविवार को सुबह की पाली में कोड संख्या-0001 से 1050 व दूसरी शिफ्ट में 1051 से 2100 तक के अधिकारियों को बुलाया था।

प्रथम पाली के लिए पंजीकृत 525 पीठासीन अधिकारियों में से 61 अनुपस्थित रहे। जबकि दूसरी पाली में 525 में से 78 अनुपस्थित रहे। इस तरह कुल 1050 में से 911 उपस्थित एवं 139 गैरहाजिर रहे।

इसी तरह दो पालियों में ही 1050 प्रथम मतदान अधिकारियों को बुलाया गया था। इनमें प्रथम पाली में 501 उपस्थित व 24 अनुपस्थित व दूसरी पाली में 477 उपस्थित व 48 अनुपस्थित रहे। जबकि कुल 211 पीठासीन व प्रथम मतदान अधिकारी अनुपस्थित रहे। मतदान के अधिकार को हथियार के रूप में करेंगे इस्तेमाल

मेरठ । चुनावी सरगर्मी बढ़ने के साथ ही मतदाताओं में प्रत्याशियों को लेकर सुगबुगाहट तेज हो गई है। दैनिक जागरण के मतदाता जागरूकता अभियान के तहत रविवार को खैरनगर के दवा व्यापारियों ने मतदान पर चर्चा की। क्षेत्र की समस्याओं का लंबे समय से निस्तारण न होने पर व्यापारियों ने कहा कि इस बार मतदान के अधिकार को हथियार के रूप में प्रयोग किया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप