मेरठ, जेएनएन। सप्ताह में दो दिन लॉकडाउन करके बाजारों को पांच दिन खोलने की मुख्यमंत्री की घोषणा का लिखित आदेश जिला प्रशासन को सोमवार को भी नहीं मिल सका। देर रात डीएम अनिल ढींगरा ने स्पष्ट किया कि सरकार की गाइडलाइन की प्रतीक्षा की जा रही है। यदि जल्द गाइडलाइन नहीं मिलती है तो संबंधित मजिस्ट्रेट (सिटी मजिस्ट्रेट, अपर नगर मजिस्ट्रेट तथा एसडीएम) अपने क्षेत्रों में बाजारों की नई व्यवस्था जारी करेंगे। इसके तहत बाजारों की साप्ताहिक बंदी के दिनों को लॉकडाउन के दो दिनों शनिवार और रविवार में मर्ज किया जाएगा। इसके साथ एक-एक पटरी खोले जाने वाले बाजारों में सप्ताह में पांच दिन का बंटवारा नहीं हो सकेगा। लिहाजा बाजारों की पटरियों को दिनवार न खोलकर तारीखवार खोला जा सकता है।

व्यापारी परेशान, नहीं हुआ निदान

मुख्यमंत्री की दो दिन के लॉकडाउन की घोषणा के बाद से ही व्यापारी और व्यापार संगठनों के पदाधिकारी परेशान हैं। वे जिला प्रशासन से बार-बार आदेश जारी करने की मांग कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन के स्तर से सोमवार को भी आदेश जारी नहीं किया जा सका। व्यापारी अब बाजारों की दोनों पटरियों को पांचों दिन खोलने की मांग कर रहे हैं, जबकि जिला प्रशासन को व्यवस्था बनाने के लिए प्रदेश शासन की गाइडलाइन का इंतजार है, जो सोमवार देर रात तक भी नहीं मिल सकी।

गाइडलाइन नहीं मिली तो मजिस्ट्रेट बनाएंगे प्लान

जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने सोमवार देर रात फोन पर बताया कि शासन की गाइडलाइन की प्रतीक्षा की जा रही है ताकि उसी के मुताबिक व्यवस्था बनाई जा सके, लेकिन गाइडलाइन नहीं मिली। यदि मंगलवार को भी निर्देश नहीं मिलते हैं तो शहर में सिटी मजिस्ट्रेट, अपर नगर मजिस्ट्रेट और तहसीलों में एसडीएम अपने क्षेत्र के बाजारों के लिए व्यवस्था जारी करेंगे। बाजारों की साप्ताहिक बंदी के पुराने निर्धारित दिनों को समाप्त करके लॉकडाउन के दो दिन शनिवार और रविवार में ही मर्ज किया जाएगा। ऐसे बाजारों को जिनकी एक दिन में केवल एक ओर की पटरी ही खुलती है, उन्हें अब दिनवार नहीं बल्कि तिथिवार खोला जाएगा। ताकि पांच दिन के सप्ताह में दोनों पटरी के दुकानदारों को बराबर दिन दुकान खोलने के लिए मिल सकें।

मेरठ मंडल में नहीं खुलेंगे रात 9 बजे तक बाजार

डीएम अनिल ढींगरा ने बताया कि मेरठ मंडल और एनसीआर के लिए सरकार ने रात में 8 से सुबह 6 बजे तक नाइट कफ्र्यू लागू कर रखा है। इसके चलते मेरठ मंडल के सभी जिलों में बाजारों में व्यापारियों को रात आठ बजे से पहले ही दुकानें बंद करके अपने घर पहुंचना होगा। प्रदेश सरकार के नए आदेश में बाजारों को सुबह 9 से रात 9 बजे तक खोलने का प्रावधान किया गया है, लेकिन यह समय मेरठ मंडल में लागू नहीं होगा।

आज गाजियाबाद में नीति आयोग की बैठक पर है नजर

आज मंगलवार को दिल्ली एनसीआर के संबंध में नीति आयोग की बैठक गाजियाबाद में है। मेरठ के अफसरों की भी नजर उक्त बैठक पर है। बैठक में लिए जाने वाले निर्णय मेरठ को भी प्रभावित करेंगे।

आइडिया तो मेरठ का ही है

सप्ताह में दो दिन की बंदी की व्यवस्था प्रदेश में केवल मेरठ जिले में लागू की गई थी। यह व्यवस्था नोडल अधिकारी पी. गुरुप्रसाद के पहले दौरे में लागू की गई थी। अफसरों की मानें तो उसका खासा लाभ भी हुआ। लिहाजा नोडल अधिकारी व अन्य वरिष्ठ अफसरों की सिफारिश पर सरकार ने सप्ताह में दो दिन लॉकडाउन के फार्मूले को पूरे प्रदेश में लागू कर दिया।

सोमवार को बंद रहे अधिकतर बाजार

55 घंटे का लॉकडाउन सोमवार सुबह 5 बजे खत्म हो गया, लेकिन इसके बाद भी शहर में बड़ी संख्या में बाजार नहीं खुले। लोग दुकानें खुलने का इंतजार कर रहे थे। आबूलेन हो या सदर, बेगमपुल, खैरनगर, बुढ़ाना गेट, दिल्ली रोड समेत तमाम बाजार इन सभी में सोमवार को साप्ताहिक बंदी होती है। इसी के चलते व्यापारियों ने बाजार बंद रखे। उन्हें शाम तक प्रशासन के नए आदेश का इंतजार था। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस