मेरठ, जेएनएन। रैपिड रेल के लिए पिलर निर्माण कार्य तेजी से शुरू हो जाएगा। गुरुवार को एनसीआरटीसी के अधिकारियों व इंजीनियरों ने निरीक्षण किया। कुंडा गांव के पास दिल्ली रोड का डिवाइडर दो दिन पहले ही घेरा गया था। इसे दोनों तरफ से घेरने के बाद बीच में मशीनें रखी जाएंगी। कार्यस्थल पर मशीनें पहुंचनी शुरू भी हो गई हैं। जल्द ही फाउंडेशन कार्य शुरू होगा।

दुहाई से शताब्दीनगर तक पिलर व स्टेशन निर्माण के लिए एल एंड टी कंपनी को ठेका मिला है। शताब्दीनगर में कास्टिग यार्ड तैयार कर रही है, वहीं डिवाइडर पर घेराव कार्य शुरू कर दिया है। निर्माण की तैयारी देखने के लिए गुरुवार को टीम मौके पर पहुंची। टीम के एक सदस्य ने बताया कि अब तेजी से कार्य शुरू हो जाएगा। जहां-जहां रोड चौड़ीकरण कर लिया गया है और आसपास आबादी या बाजार का दबाव नहीं है, वहां पहले घेराव कर लिया जाएगा। इसी तरह से कुछ समय में शताब्दीनगर से दुहाई तक फाउंडेशन तैयार किया जाएगा। फाउंडेशन के बाद उस पर पिलर का कार्य शुरू होगा। कास्टिग यार्ड में कुछ समय बाद पिलर के ऊपर रखने के लिए गर्डर व वायडक्ट निर्माण भी शुरू कर दिया जाएगा।

इसी माह खुलेंगे दो अंडरपास, जाम से मिलेगी निजात

साहिबाबाद: गाजियाबाद से नोएडा के बीच सफर करने वाले वाहन चालकों को जल्द ही जाम से निजात मिलने जा रही है। सिद्धार्थ विहार के पास बन रहे अंडरपास को नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआइ) एक सप्ताह के अंदर वाहन चालकों के लिए खोल देगा। इसके अलावा लाल कुआं के पास बन रहा अंडरपास इस माह के अंत तक खोला जाएगा। दोनों अंडरपास शुरू होने पर वाहन चालकों को जाम से छुटकारा तो मिलेगा ही, वे करीब दो किलोमीटर लंबा चक्कर लगाने से भी बच सकेंगे।

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर यूपी गेट से डासना तक का काम जून के अंत तक पूरा किया जाना था। हालांकि लॉकडाउन होने के चलते अब यह काम छह माह की देरी से पूरा होगा। इस काम की समय सीमा दिसंबर 2020 निर्धारित की गई है। अनलॉक-1 से एक्सप्रेस-वे का काम तेजी से किया जा रहा है। इसी कड़ी में सिद्धार्थ विहार के पास गाजियाबाद और नोएडा के बीच बन रहे एक अंडरपास को एक सप्ताह में खोल दिया जाएगा। अंडरपास का काम लगभग पूरा हो चुका है। सिर्फ सड़क निर्माण बाकी है जिसे जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। लाल कुआं के पास भी शुरू होगा अंडरपास: लाल कुआं के पास भी एक अंडरपास जुलाई के अंत तक खोल दिया जाएगा। इस अंडरपास के खुलने के बाद गाजियाबाद से नोएडा जाने वाले वाहन चालकों को करीब दो किलोमीटर लंबा चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। साथ ही जाम से भी पूरी तरह निजात मिल जाएगी। दोनों अंडरपास शुरू होने के बाद पांच हजार से अधिक वाहन चालकों को इनका लाभ मिल सकेगा। अनलॉक-1 में तेजी से यूपी गेट से डासना तक का काम किया जा रहा है। सिद्धार्थ विहार के पास बन रहे अंडरपास को एक सप्ताह के अंदर खोलने की योजना है। अन्य निर्माणाधीन अंडरपासों को भी जल्द ही खोल दिया जाएगा।

- मुदिग गर्ग, उप महाप्रबंधक, एनएचआइ।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस