मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मेरठ, जेएनएन : बारिश के बाद मेरठ-पौड़ी (एनएच-119) गहरे गड्ढों में तब्दील हो गया है। इनमें पानी भरने के कारण हालात बेहद खराब हो गए हैं। वाहन सवारों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ये गड्ढे स्कूली बच्चों व वरिष्ठ नागरिकों के लिए दुर्घटना का सबब बन गए हैं।

एनएच-119 पर मंडलायुक्त आवास चौराहे से गंगानगर तक सड़क बदहाल है। भगत लाइंस पर जाट रेजीमेंट के सामने सड़क के बीचों-बीच गहरा गड्ढा हो गया है। रात के वक्त वाहन सवार में गिरकर घायल हो रहे हैं। भगतलाइन गेट के सामने हाइवे क्षतिग्रस्त है। गंगानगर थाने के सामने बडे-बडे गड्ढे हो गए हैं। डिफेंस कॉलोनी के सामने हाइवे पर डिवाइडर के दोनों ओर सड़क जर्जर होकर टूट गई है। गड्ढों में वाहन सवार हिचकोले खाते हुए गुजर रहे हैं। तलवार पेट्रोल के सामने व कसेरू बक्सर टेंपो स्टैंड दोनों जगह गहरे गड्ढों में बारिश का पानी भर गया है।

मेन डिवाइडर रोड भी टूटी

गंगानगर की मेन डिवाइडर रोड भी बारिश के बाद कई जगह टूट गई है। गंगानगर निवासी व्यापारी आशीष मलिक व रक्षापुरम निवासी वरिष्ठ अधिवक्ता डा. एसडी गौड़ ने बताया कि डिवाइडर रोड में गड्ढों व बिखरी रोड़ी से वाहन सवार फिसलकर चोटिल हो रहे हैं। सी-ब्लॉक निवासी मोनू की आफिस जाते वक्त बाइक फिसल गई। इससे वह गंभीर रुप से चोटिल हो गया।

इन्होंने कहा

बारिश के बाद इस सड़क की मरम्मत की जाएगी।

डीके चतुर्वेदी, परियोजना निदेशक, एनएचएआइ डीएम ऑफिस में हार्वेस्टिंग की प्रतीक्षा कर रहा रेन वाटर

मेरठ, जेएनएन : केंद्र सरकार देश भर में रेन वाटर हार्वेस्टिंग की अपील कर रही है। दोनों हाथों से इसके लिए पैसा लुटाया जा रहा है, वहीं मेरठ में जनपद के मुखिया के कार्यालय परिसर में ही बारिश का पानी संरक्षण की प्रतीक्षा में कई दिन से भरा है। यहां रेन वाटर हार्वेस्टिंग तो है लेकिन चोक है। पूरे परिसर में बारिश के पानी की निकासी नहीं हो पा रही है। इसके चलते यहां कई कई दिन तक यह पानी भरा रहता है। इस जलभराव पर हाल ही में जनपद के नोडल अधिकारी अपर मुख्य सचिव रमा रमण ने भी नाराजगी जताई थी। इसके बाद भी कोई सुधार नहीं हो सका है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप