मेरठ,जेएनएन। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों ने सभी की चिंता बढ़ा दी है। जिले के हर हिस्से से संक्रमित मिल रहे हैं। मौसम में ठंडक बढ़ने के साथ लोगों में सर्दी-जुकाम की शिकायत भी बढ़ने लगी है, जो कोरोना के भी लक्षण हो सकते हैं। वहीं रोजाना मिल रहे कोरोना संक्रमण के नए मामलों में बुजुर्ग, युवाओं के अलावा 18 वर्ष से कम आयु के किशोर व बच्चे भी संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। रविवार को कुल 1168 संक्रमित मिले, जिसमें 109 मरीज 18 वर्ष से कम आयु के हैं। इसके अलावा इनमें व्यापारी, छात्र, स्वास्थ्य कर्मी, नगर निगम कर्मियों के अलावा अन्य नौकरी-पेशा लोग भी शामिल हैं। बहरहाल, राहत की बात यह है कि पिछले दो दिनों से किसी की जान नहीं गई।

मंडलीय सर्विलास अधिकारी डा. अशोक तालियान ने बताया कि रविवार को 6630 सैंपलों की जाच की गई। इनमें 628 नए मरीज मिले व 540 मरीज काटेक्ट ट्रेसिंग में संक्रमित पाए गए हैं। कोरोना संक्रमण की दर शनिवार के मुकाबले रविवार को 4.5 प्रतिशत अधिक रही। पिछले दिनों से संक्रमण की दर लगातार 10 प्रतिशत से अधिक बनी हुई है। अब जिले में कोरोना संक्रमण से ग्रसित 8367 संक्रमित मरीज हैं। इनमें 35 मरीज विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं, जबकि 8332 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। वहीं, 578 मरीजों के स्वास्थ्य में सुधार होने पर उनकी दोबारा जाच में रिपोर्ट निगेटिव आने पर उनको डिस्चार्ज कर दिया गया। बताया कि गनीमत है कि मरीज जल्द ठीक भी हो रहे हैं। जिले में सबसे अधिक जयभीमनगर में 136, पल्हेड़ा में 113, कसेरू बक्सर में 79, राजेंद्र नगर में 72, नंगलाबट्टू में 71, रजबन में 60, पुलिस लाइन में 56, संजय नगर में 43, कैंट में 34, ब्रह्मापुरी में 30, मलियाना में 13 मरीज मिले हैं। इसी तरह ग्रामीण इलाकों में भी मरीज मिल रहे हैं, लेकिन शहर की तुलना में कम संक्रमित मिल रहे हैं। सात दिनों में ही जयभीमनगर में मिल चुके 721 मरीज

पिछले कुछ दिनों में शहर के जयभीमनगर इलाके में संक्रमण की चेन मजबूत हुई। बीते सात दिनों में यहा संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं और बीते तीन-चार दिनों में यहा क्षेत्रवार सर्वाधिक मरीज मिले हैं। सभी सात दिनों को मिलाकर कुल 721 मरीज मिल चुके हैं।

----------------------

चिकित्सक का कहना है

संक्रमण से बचाव के लिए सतर्कता बरतें, अगर किसी संक्रमित के संपर्क में आ गए हैं तो पाच दिन के लिए क्वारंटाइन जरूर हो जाएं। इस बार संक्रमण तेजी से फैल रहा है। जिनको संक्रमण हो गया है, वह सात दिनों तक चिकित्सक के संपर्क में रहकर होम आइसोलेशन करें। इस दौरान गर्म पानी से गरारे, भाप लेना फायदेमंद होगा। सात दिनों के बाद भी दो दिन तक बिना दवा खाए अगर आपको बुखार न आए तब खुद को स्वस्थ समझिए। जिनको भी बुखार, जुकाम, गले में खराश समेत अन्य लक्षण हैं, वे जरूर अपनी जाच कराएं। बुजुर्ग व पहले से किसी बीमारी से ग्रसित व्यक्ति तुरंत जाच कराएं।

डा. तनुराज सिरोही, वरिष्ठ फिजीशियन

Edited By: Jagran