मेरठ,जेएनएन। कोरोना संक्त्रमण की बढ़ी रफ्तार के बीच टीकाकरण अभियान भी तेज किया गया है। रविवार को जिले भर में 323 स्थानों पर टीकाकरण अभियान चला। जिसमें कुल 10432 लोगों को टीका लगाया गया। टीकाकरण कराने में किशोर सतर्कता टीका लगवाने वालों से आगे निकल रहे हैं। रविवार को ही 1968 किशोरों ने टीका लगवाया जबकि सिर्फ 273 को सतर्कता डोज दी गई। वहीं, सोमवार को 384 स्थानों पर 38800 लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. प्रवीण कुमार गौतम ने बताया कि टीकाकरण को बढ़ाने के लिए विभिन्न विद्यालयों व संस्थानों में विशेष कैंप आयोजित किए जा रहे हैं। रविवार को हुए टीकाकरण में 18 वर्ष से ऊपर आयु वालों में 3106 ने पहली डोज लगवाई और 5085 ने दूसरी डोज लगवाई। अब जिले में इस आयु वर्ग के 22.79 लाख लोगों को पहली डोज यानी लक्षित 2562900 लोगों के सापेक्ष 89 प्रतिशत का टीकाकरण हो चुका है। जबकि 1460804 को दोनों डोज दी जा चुकी है। तीन जनवरी से शुरू हुए किशोरों के टीकाकरण अभियान में अब तक 71248 को पहली डोज लगाई जा चुकी है। 14 दिनों में ही लक्षित 2.41 लाख किशोरों में 29.5 प्रतिशत को टीका लगाया जा चुका है।

मरीजों के प्रति चिकित्सकों को पढ़ाया सेवा भाव का पाठ: रविवार को मेडिकल कालेज सभागार में डाक्टरों में मरीजों के प्रति सेवा भाव पैदा करने के लिए मेडिकल एथिक्स का पाठ पढ़ाया गया। मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. आरसी गुप्ता की अगुवाई में सेमिनार का आयोजन हुआ। कार्यक्रम की मुख्यवक्ता नर्सिंग कालेज की सह आचार्य आयुशी बंसल ने कोड आफ एथिक्स इन नर्सिंग विषय पर बताया। कहा कि नर्सिंग एक नोबेल प्रोफेशन है। मदर टेरेसा को आदर्श मानते हुए हमें निस्वार्थ भाव से मरीज की सेवा करना चाहिए। हमें मरीज और उनके तीमारदारों से हमेशा अच्छा व्यवहार करना चाहिए। उसके जगह स्वयं को रखकर देखें। अच्छे नर्सिंग स्टाफ होने के साथ ही हमें एक अच्छा इंसान भी बनाना चाहिए। इस दौरान डा. ललिता चौधरी, डा. प्रीति राठी, डा. धीरज राज बालियान, डा. रचना चौधरी, डा. दिनेश राणा, डा. वीडी पाडेय समेत अन्य चिकित्सक व स्टाफ मौजूद रहा।

Edited By: Jagran