जागरण संवाददाता, मऊ : जमानत पर रिहा होकर बाहर आए पूर्व ब्लाक प्रमुख व वर्तमान प्रमुखपति परदहां रमेश ¨सह 'काका' गिरोह पर पुलिस ने फिर शिकंजा कस दिया है। काका का नाम जनपद के चर्चित लेखपाल धीरज ¨सह की हत्या में सामने आया है। पुलिस ने काका के दाहिने हाथ अर¨वद ¨सह को हत्यारोपित बताते हुए काका को षड्यंत्रकर्ता करार दिया है। पुलिस का दावा है कि जनपद में विवादित जमीनों पर कब्जा कराने का काम काका की गिरोह कर रही है।

चर्चित लेखपाल धीरज ¨सह की हत्या में काका का नाम सामने आने पर अब पुलिस ने गैंग पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। पुलिस का मानना है कि कुछ महीने पूर्व जेल से छूटने के बाद शातिर अपराधी रमेश ¨सह काका जनपद के कई क्षेत्रों में विवादित जमीनों पर कब्जा कराने तथा समझौता कराकर मोटी रकम ऐंठने का काम कर रहा है। कभी वह स्वयं पंचायत आदि में शामिल होता है तो कभी धन लाभ के लिए अपनी दहशत कायम करने के लिए आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिलाकर अपने साथियों व शूटर आदि का भी इस काम में सहयोग लेता रहता है। पुलिस का आरोप है कि लेखपाल धीरज ¨सह हत्याकांड में भी काका ने मोटी रकम के एवज में डील करके पहले लेखपाल पर अनुचित दबाव बनाया। जब लेखपाल अपनी बात पर अड़े रहे तो अपने साथियों व गुर्गों को भेजकर साजिशकर्ता के रूप में लेखपाल की हत्या करा दी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप