जागरण संवाददाता, मऊ : सदर विधायक मुख्तार अंसारी की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही है। अभी जहां गैंगस्टर व फर्जी असलहा प्रकरण में विधायक मुख्तार अंसारी के मामले की लगातार सुनवाई चल रही है, वहीं विधायक निधि के दुरुपयोग के प्रकरण में भी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट फारूख इनाम सिद्दकी ने वारंट बी जारी किया है। अब पुलिस बांदा जेल में वारंट बी का तामिला कराएगी। इसके बाद 22 जून को इस मामले में विधायक की पेशी होगी।

विधायक निधि का दुरुपयोग करने के धोखाधड़ी के सरायलखंसी थाने के एक मामले में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट फारूक इनाम सिद्दीकी ने विधायक को बांदा जेल से अदालत में पेश करने के लिए बारंट बी जारी किया है। बताया जाता है कि सरायलखंसी थाना क्षेत्र के सरवां के पूर्व प्रधान बैजनाथ यादव के विद्यालय को मुख्तार अंसारी ने विधायक निधि के जरिए मानक के विपरीत अवैध तरीके से धन उपलब्ध कराया। इस मामले में थाना सरायलखंसी में विधायक के विरुद्ध धोखाधड़ी व षडयंत्र का मामला पंजीकृत किया गया। इस मामले की विवेचना कोतवाली के इंसपेक्टर डीके श्रीवास्तव कर रहे हैं। सोमवार को इस मामले में मुख्तार अंसारी का ज्यूडिशियल रिमांड बनवाने के लिए बांदा जेल से उन्हें लाने के लिए विवेचक ने अदालत में आवेदन किया था। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने इस मामले में मुख्तार अंसारी को यहां लाने के लिए वारंट बी जारी कर 22 जून की तारीख तय कर दी है।

Edited By: Jagran