-हार्वेस्टर संचालक खेत में बनाएं भूसा, अन्यथा आग लगी तो उन पर कार्रवाई

-40 बेड सहित इतने लोगों के रुकने की व्यवस्था, भोजन के साथ

-सभी लोग करें लाकडाउन का पालन, न निकलें घरों से वर्ना कार्रवाई

जागरण संवाददाता, मऊ : लाकडाउन के चलते कहीं किसी को कोई समस्या न हो, इसके लिए सरकार से लगायत जिला प्रशासन तक तत्पर है। सभी अपने स्तर से योजना बनाकर लोगों को राहत पहुंचाने में जुटे हुए हैं। इसी क्रम में भूले-भटके या निराश्रित लोगों की भी प्रशासन ने सुधि ली है। नगर के ब्रह्मस्थान स्थित सामुदायिक आश्रय गृह को सैटिनाइज कर पूरी तरह से आगंतुकों व निराश्रितों के लिए तैयार कर दिया गया है। 40 बेड स्थापित हैं। यहां रुकने वालों को प्रशासन द्वारा निश्शुल्क भोजन भी उपलब्ध कराया जाएगा। शुक्रवार की शाम कलेक्ट्रेट में आयोजित प्रेस वार्ता में जिलाधिकारी ज्ञानप्रकाश त्रिपाठी ने यह जानकारी दी।

साथ ही लोगों से लाकडाउन का पालन करने की अपील की। बताया कि गलियों और मुहल्लों में चहलकदमी करने वालों पर सख्ती बरती जाएगी और उन्हें घरों के भीतर भेजा जाएगा, प्रशासन ने इसकी व्यवस्था कर ली है। उन्होंने निर्देश दिया कि मौसम बदल रहा है, खेतों में आग लगने की घटनाएं बढ़ जाती हैं। ऐसे में सभी हार्वेस्टर संचालक अपने हार्वेस्टर में भूसा बनाने वाली रिपर मशीन जरूर लगवाएं। इसके बिना उनके हार्वेस्टर चलने नहीं दिए जाएंगे। उन्हें मौके पर ही भूसा बनाना होगा। यदि खेत में आग लगी तो इसके लिए किसान नहीं बल्कि हार्वेस्टर संचालक जिम्मेदार होगा, उसके विरुद्ध कार्रवाई होगी। यह भी बताया कि किसानों के भूसे का क्रय मनरेगा के मद से ग्राम पंचायतों द्वारा किया जाएगा। ग्राम पंचायतें भूसा रखने की व्यवस्था बना लें। यह भूसा निराश्रित पशु शालाओं के काम आएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस