मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, मऊ : देश की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने विदेशों में भारत का मान बढ़ाया था। उनके मंत्रित्व काल में देश के किसी कोने से किसी भी व्यक्ति का एक संदेश मिलने के बाद वे उसकी हर संभव मदद करने के साथ ही उसे विदेश तक से तुरंत वापस देश लाने के लिए खुद लग जाती थीं। उनके निधन से पूरा भारतवासी को सदमा पहुंचा है, देश ने एक कर्मठ व ईमानदार नेता खो दिया है। यह बातें एडवोकेट विजय बहादुर पाल ने कही। वे गुरुवार को नगर के चंद्रा पब्लिक स्कूल में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में बच्चों से रूबरू थे। इस दौरान उन्होंने शिक्षकों व छात्रों संग दो मिनट का मौन रखकर तथा उनके प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित किया। प्रधानाचार्य केसी पीटर ने कहा कि सुषमा स्वराज एक सच्ची देशभक्त व विदुषी महिला थीं। देश ने एक अंतरराष्ट्रीय नेत्री को खो दिया है। सुषमा स्वराज एक कुशल वक्ता, कुशल संगठनकर्ता, ओजस्वी एवं हाजिर जवाब नेत्री थीं। शोकसभा में विद्यालय की उप प्रधानाचार्या सविजा पीटर, कोआर्डिनेटर कंचन सिंह आदि मौजूद थीं।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप