जागरण संवाददाता, मऊ : वर्षों के इंतजार के बाद मऊ जंक्शन पर जब वा¨शग पिट व टर्मिनल निर्माण की रेलवे योजना बनाई तो कुछ काम होने के बाद बात आगे ही नहीं बढ़ रही थी। डेढ़ वर्ष से अधिक समय से कार्य रुके होने के चलते जिले के अफवाहबाजों ने इस अफवाह को हवा देनी शुरू कर दी कि वा¨शग पिट का निर्माण यहां होगा ही नहीं, वह अब गाजीपुर चला गया है। लेकिन अधूरे कार्यों को लेकर जब रेलवे ने नया टेंडर जारी किया तो वा¨शग पिट निर्माण का कार्य आंधी की रफ्तार से शुरू हो गया। वा¨शग पिट के निर्माण के पूरा होने में अब कुछ दिन नहीं, बल्कि कुछ घंटों का ही कार्य शेष बचा है। वा¨शग पिट निर्माण को पूरा होते देख हर कोई अब यही कह रहा है कि जिले में वर्षों बाद कोई विकास की बड़ी नजीर देखने को मिलने जा रही है।

मऊ जंक्शन पर वा¨शग पिट के निर्माण का प्रस्ताव तत्कालीन यूपीए सरकार में किया गया था, लेकिन शिलान्यास के बाद किन्ही कारणों से यह अटक गया। मोदी सरकार के गठन के बाद जब रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने वा¨शग पिट निर्माण की योजना पर ध्यान दिया तो बजट स्वीकृत कर कार्य शुरू किया गया। पिछली कार्यदाई संस्था ने काम तो किया लेकिन उसमें कुछ बड़ी तकनीकी चूक रह गई। वर्ष 2018 के अंतिम तिमाही में यह कार्य पूरा करने के लिए फिरसे एक नई कार्यदाई संस्था को टेंडर जारी किया गया। रेल राज्य मंत्री की प्राथमिकता और पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक के दबाव में जल्द कार्य पूरा करने के लिए कार्यदाई संस्था दिन रात एक कर काम करना शुरू किया। फिलहाल वा¨शग पिट निर्माण का 99 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है। केवल एक प्रतिशत कार्य यानी तैयार वा¨शग पिट के रेलवे ट्रैक को मुख्य ट्रैक से जोड़ने का काम बाकी है। इसकी अनुमति मिलने पर रेलवे ट्रैक पर ट्रेनों का संचालन कुछ घंटे रोक कर यह कार्य भी पूरा कर दिया जाएगा। रेलवे सूत्रों के मुताबिक जल्द ही यह अनुमति जारी होने वाली है।

Posted By: Jagran