जागरण संवाददाता, मऊ : नगर पालिका मऊ में 23 कोटे की दुकानों पर फर्जी मिले अन्त्योदय व पात्र गृहस्थी के कार्डधारकों के मामले में जिलाधिकारी ज्ञानप्रकाश त्रिपाठी के निर्देश पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है। जिला पूर्ति अधिकारी हिमांशु द्विवेदी ने एआरओ व वरिष्ठ लिपिक की आख्या जिलाधिकारी के यहां प्रेक्षित कर दिया गया है। दोषी मिले वरिष्ठ लिपिक को मुहम्मदाबाद गोहना व एआरओ रामाश्रय को परदहां ब्लाक स्थानांतरित कर दिया गया है। परदहां की पूर्ति निरीक्षक हर्षिता राय को नगर पालिका का चार्ज सौंपा गया है।

जिला पूर्ति अधिकारी ने बताया कि नगर पालिका के 23 दुकानों की जांच एआरओ रामाश्रय द्वारा की जा रही थी। इसमें अन्त्योदय के 260 व पात्र गृहस्थी के 1007 राशन कार्ड फर्जी पाए गए थे। इसमें अंत्योदय में 561 व पात्र गृहस्थी में 4992 यूनिट भी गलत थी। इस मामले में कार्रवाई के लिए आरोप पत्र बनाकर जिलाधिकारी को सौंपा गया था। आरोप पत्र में कार्रवाई करते हुए स्थानांतरण करते हुए दोनों लेागों स्पष्टीकरण मांगा गया था लेकिन त्रुटिवश निलंबन की कार्रवाई हो गई। बताया कि एआरओ अप्रैल माह 2020 में नगर पालिका का कार्यभार संभाले थे। यह अनियमितता पहले के पूर्ति निरीक्षक व लिपिक धीरज अग्रवाल ने की थी। ऐसे में दोनों लोगों से स्पष्टीकरण मांग कर जिलाधिकारी को आख्या प्रेषित कर दी गई है। आख्या प्रेषण के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। बताया कि पूर्ति निरीक्षक धीरज अग्रवाल पूरी तरह से दोषी हैं। वह काफी दिनों से नगर पालिका का कार्य देख रहे थे। उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

डीएसओ के आदेश के बावजूद नहीं ग्रहण की चार्ज

मऊ : परदहां ब्लाक की पूर्ति निरीक्षक हर्षिता राय को दो दिन पूर्व नगर पालिका का चार्ज ग्रहण करने के लिए निर्देशित किया गया था लेकिन वह अभी तक चार्ज ग्रहण नहीं की है। दूसरी तरफ एआरओ रामाश्रय ने कार्यभार ग्रहण कर लिया है। इसे लेकर विभाग में जबरदस्त चर्चा है। चर्चा यह भी की जा रही है कि नगरपालिका में व्याप्त भ्रष्टाचार की वजह से वह चार्ज नहीं ले रही है।

Posted By: Jagran

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस