जागरण संवाददाता, चिरैयाकोट (मऊ) : स्थानीय रामलीला समिति द्वारा आयोजित रामलीला में भारत मिलाप और भगवान श्रीराम के राज्याभिषेक का मंचन हुआ। 14 वर्ष वनवास पूर्ण होने के बाद भरत भगवान की बाट जोह रहे थे। भरत कहते हैं, हे भैया आप मेरी सुधि बिसार दिए हैं। आपने मुझसे वादा किया था कि 14 वर्ष पूर्ण होते ही अयोध्या वापस आ जाऊंगा। आपकी बातों पर विश्वास कर गुरु वशिष्ठ के कहने पर मैं वापस लौट आया था। आज 14 वर्ष पूर्ण हो गया है। यदि आज भी आप नहीं आए तो मैं आत्मदाह कर लूंगा। उसी समय ब्राह्मण के वेष में हनुमानजी आकर भरत को सूचना देते हैं कि प्रभु राम माता सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अयोध्या पधार रहे हैं। यह सुन भरत दौड़ पड़ते है।

भाइयों का भावपूर्ण मिलान देखकर दर्शकों की आंखें नम हो जाती है। जय श्रीराम के नारों से पूरा पंडाल गूंज उठता है। भरत अपने भाइयों के साथ अयोध्या पहुंचते हैं। माताएं, गुरु, मंत्री तथा प्रजा से मिलते हैं। इसके पश्चात गुरु वशिष्ठ के आदेश पर राज्याभिषेक की तैयारी शुरू हो जाती है। गुरु वशिष्ठ के हाथों भगवान श्रीराम का राजतिलक किया जाता है और सारे अयोध्यावासी खुशी से झूम उठता है। संचालन व निर्देशन अशोक कुमार अश्क चिरैयाकोटी ने किया। प्रकाश पांडेय, विशाल मद्धेशिया, प्रियांशु पांडेय, रामकुमार जायसवाल, प्रेमचंद मौर्य, राजकुमार मौर्य, अखिलेश पांडेय, भूपेंद्र मौर्य, सोहनलाल टीएम, आशुतोष पांडेय आदि ने अपने अभिनय से दर्शकों का मन मोह लिया। रामलीला समिति के अध्यक्ष रामजी पांडेय व उपाध्यक्ष सुभाष जायसवाल ने नगरवासियों व क्षेत्र की जनता के सहयोग के प्रति धन्यवाद दिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस