जागरण संवाददाता, वलीदपुर (मऊ) : डॉ. राममनोहर लोहिया ग्राम विकास योजना में चयनित हो चुके चलिसवां गांव का पंचायत भवन अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है। विभागीय अधिकारियों व कर्मचारियों की अनदेखी से इसका लाभ ग्रामीणों को नहीं मिल रहा है। शासन द्वारा मुहम्मदाबाद गोहना ब्लाक के उक्त गांव को उक्त योजना अंतर्गत चयनित किया गया था। खुली बैठकों के लिए पंचायत भवन न होने के कारण दिक्कतें होरही थीं। इसके लिए पंचायत राज विभाग द्वारा धनराशि आवंटित की गई। पंचायत भवन का निर्माण कराया गया लेकिन वर्षों से पंचायत भवन में न तो ग्राम पंचायत की बैठक की जा रही है और न ही यहां पर कोई विभागीय अधिकारी व कर्मचारी जा रहा है।

भवन की छतों व दीवारों से प्लास्टर टूटकर गिर रहे हैं। भवन के चारों ओर झाड़-झंखाड़ फैले हुए हैं इसके दरवाजा एवं खिड़कियां कुछ लोगों द्वारा उखाड़ लिए गए हैं यह भवन गांव के बाहर सिवान में बनाया गया है। भवन की रंगाई-पोताई भी विभाग द्वारा नहीं कराई गई है। जिससे पंचायत भवन की दशा बेहद खराब हो चुकी है। जबकि शासन का स्पष्ट आदेश है कि ग्राम पंचायत के संपत्तियों की उचित देखभाल की जाए लेकिन शासन का यह आदेश मात्र दिखावा सिद्ध हो रहा है। गांववासियों ने बताया कि पंचायत भवन की मरम्मत कराने के लिए ब्लॉक से लेकर जिला स्तर तक के अधिकारियों से मांग की गई है। इसके बावजूद भवन की स्थिति जस की तस बनी हुई है। पंचायत भवन की स्थिति दयनीय होने के कारण सरकारी योजनाओं की जानकारी ग्रामीणों को नहीं हो पा रही है। इसे लेकर ग्रामीणों में भारी आक्रोश व्याप्त है। वहीं गांव के प्रधान प्रतिनिधि रामविलास चौहान का कहना है कि इस पंचायत भवन की मरम्मत कई बार कराई जा चुकी है परंतु गांव के बाहर होने के नाते इसकी देखभाल नहीं हो पा रही है इसलिए यहां से दरवाजे खिड़की अज्ञात चोरों द्वारा उखाड़ लिए जाते हैं। इसकी मरम्मत के लिए प्रस्ताव दिया गया है । बजट आने पर इसकी मरम्मत जल्द ही करा दी जाएगी। गांव की खुली बैठक प्राइमरी स्कूल पर कराई जाती है और ग्रामीणों को सरकारी योजनाओं की जानकारी दी जाती है। वर्जन--

'पंचायत भवन के बाबत जानकारी नहीं है। इसकी तत्काल जानकारी प्राप्त कर रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी और बजट आने पर तुरंत मरम्मत का कार्य कराया जाएगा।'

-देव कुमार चतुर्वेदी, खंड विकास अधिकारी मुहम्मदाबाद गोहना, मऊ।

Posted By: Jagran