जागरण संवाददाता, मऊ : केंद्र व प्रदेश सरकार जहां ग्राम पंचायतों को सशक्त करने की दिशा में अग्रसर हैं वहीं कर्मचारियों की लापरवाही इसकी बड़ी वजह मानी जा रही है। इस पर लगाम लगाने के लिए विकास भवन ने एक कवायद शुरू की है। इसके लिए इंटरनेट मीडिया का सहारा लिया गया है। अब 10 बजे अगर कर्मचारी खंड विकास मुख्यालय पहुंचकर अपना अटेंडेंस बनाए गए वाट्सएप ग्रुप पर नहीं भेजेंगे तो उनका वेतन काट लिया जाएगा। जिला विकास अधिकारी ने सभी खंड विकास अधिकारियों को सख्त निर्देश जारी किया है कि वे कर्मचारियों की उपस्थिति सुबह 10 बजे सुनिश्चित करें।

विकास भवन में सभी विकास खंडों का एक वाट्सअप ग्रुप बनाया गया है। इसमें सभी कर्मचारी अपनी उपस्थित दर्ज करा उपस्थित रजिस्टर व ग्रुप की फोटो भेजेंगे। इसके लिए विकास प्रशासन ने 10:05 बजे तक का समय दिया है। इस दौरान प्रतिदिन सभी अधिकारियों-कर्मचारियों की उपस्थिति का आकलन किया जाएगा। इसमें जिसकी अनुपस्थिति रहेगी, उसका वेतन बाधित किया जाएगा। आमजन के आए दिन कर्मचारियों के ब्लाक मुख्यालय पर नहीं होने की शिकायतें विकास भवन को प्राप्त हो रही थी। इसके चलते जहां आमजन की समस्याओं का त्वरित निस्तारण नहीं हो पा रहा था तो कर्मचारियों के मनमाने रवैये से ग्रामीण विकास के कार्य प्रभावित हो रहा था।

ब्लाक मुख्यालय पर अक्सर अधिकारियों-कर्मचारियों के लेटलतीफी की शिकायतें मिलती थी। अब ऐसा नहीं होगा। अब सभी को 10 बजे पहुंचकर पूरे अधिकारी-कर्मचारियों को ग्रुपिग फोटो भेजना है। इसमें जो भी अधिकारी-कर्मचारी इसका पालन नहीं करेगा, कार्रवाई की जाएगी।

- उमेशचंद तिवारी, जिला विकास अधिकारी।

Edited By: Jagran