मऊ, जागरण संवाददाता। जिले में मंगलवार को हुई झमाझम बारिश की वजह से दुर्गा पूजा और दशहरा के उत्साह के पानी फेर दिया। जगह-जगह दुर्गा पूजा पंडालों में पानी घुस गया। इसकी वजह से दुर्गा पूजा समितियों को मशक्कत करना पड़ा। शहर में दोपहर बाद हुई बारिश के बाद सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। फिलहाल देर शाम तक रिमझिम बारिश होती रही।

मधुबन के कई क्षेत्रों में सुबह से ही बारिश हो रही थी। इसकी वजह से जलजमाव हो गया। इससे लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। दूसरी तरफ अपर जिलाधिकारी भानु प्रताप सिंह ने बताया कि मौसम विभाग की तरफ से 08 अक्टूबर तक भारी वर्षा की आशंका जताई गई है। ऐसे में सभी पूजा समितियों के लाेग और आम पब्लिक अलर्ट रहें। सभी लोग बारिश के दौरान घरों में रहें।

दुर्गा प्रतिमा विसर्जन को लेकर लोगों में उत्साह

पिछले कई दिनों से दशहरा और दुर्गा पूजा को लेकर लोगों में उत्साह देखा जा रहा है। इसी को लेकर समितियों के लोग उत्साहित भी थे। पूरे पंडाल को रंग बिरंगी लाइटों से जहां सजाया गया है। वहीं मां दुर्गा की प्रतिमाएं भी स्थापित कर दी गई हैं। कुल मिलाकर पूजन अर्चन शुरू हो गया है।

बुधवार दशहरा को लेकर हर तरफ उत्साह देखा जा रहा था, लेकिन अचानक मौसम ने अपना रुख बदला और झमाझम बारिश शुरू हो गई। मधुबन प्रतिनिधि के अनुसार नवरात्र के अंतिम दिन सुबह से हो रही बारिश से दुर्गा पूजा के उत्सव का मजा किरकिरा कर दिया है। आयोजन समिति पंडाल को बारिश से बचाने की व्यवस्था में जुटे हुए हैं।

मंगलवार से ही हो रही रुक-रुक कर बारिश

क्षेत्र में नवरात्रि के अंतिम दिन दुर्गा पूजा के उत्सव में शामिल होने और पंडाल की सजावट देखने के लिए ग्रामीण इलाके के लोग भी अपने बाजार में पहुंचते हैं। इससे नवमी के दिन देर रात तक बाजार में चहल पहल बनी रहती है, लेकिन मंगलवार की सुबह से ही रुक-रुक हो रही बारिश से पंडालों में जलजमाव हो गया है।

Edited By: Jaiprakash Nishad

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट