मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जासं, अदरी (मऊ) : प्रचंड गर्मी व शरीर झुलसा देने वाली धूप से जीना मुहाल हो गया है। दोपहर में घर से बाहर निकलते ही लगता है कि मानो आसमान से आग बरस रही है। अप्रैल में ही गर्मी रिकार्ड तोड़ने में लग गई है। सूरज की तपिश और मौसम के सख्त मिजाज ने लोगों को बेहाल करके रख दिया है। दिन में 12 बजते ही सड़कों पर सन्नाटा पसर जा रहा है। ग्राहकों का अभाव देख व्यापारी भी दुकानों का शटर गिरा कर आराम फरमाते देखे जा रहे हैं।

गर्मी का प्रकोप बढ़ते ही बिजली ने भी रंग दिखाना शुरू कर दिया है। गर्मी के सामने ट्रांसफार्मर भी दगा देने लगे हैं। ओवरलोडिग के चलते बिजली ट्रिपिग का खेल भी शुरू हो गया है। फाल्ट के नाम पर बेतहासा हो रहे बिजली कटौती से उपभोक्ता आजिज आ चुके हैं। रात में बत्ती गुल होते ही मच्छरों की भनभनाहट की आहट व गर्मी से लोगों का नींद हराम हो जा रही है। रात्रि में नींद पूरा नहीं होने के कारण लोगों के स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ जा रहा है। धूप में पढ़ते ही गर्म हवाओं की थपेड़ों से जूझ रहे लोग बीमार पड़ जा रहे हैं। गर्मी व बिजली कटौती से लोगों की दिनचर्या भी पूरी तरह से बेपटरी हो गई है। दुकानों पर सुराही मटका लोगों को खूब आ रहा है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप