जागरण संवाददाता, मऊ : महिला ऐच्छिक ब्यूरो की बैठक रविवार को पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य के निर्देशन में पुलिस लाइन में हुई। इस दौरान कुल 13 पारिवारिक मामले सुलझाने के लिए सामने लाए गए, जिसमें से ब्यूरो के सदस्यों के प्रयास से पांच मामलों का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया। शेष मामलों में बैठक की अगली तिथि 19 जनवरी निर्धारित की गई। इसके लिए सभी पक्षकारों को नोटिस भेजने का निर्देश दिया गया।

महिला ऐच्छिक ब्यूरो में सुनवाई के दौरान सुनीता और शिवपलट के मामले में केस कोर्ट में विचाराधीन होने के चलते पत्रावली निस्तारित कर दी गई। रजिया और वशी अहमद तथा नसीम और जैनब के मामले में पक्षकारों के अनुपस्थिति के चलते तथा मीरा चौहान और अमरनाथ तथा रुबीना और अली शेर के मामले में पक्षकारों की सहमति से पत्रावली निस्तारित कर दी गई। इस दौरान तीन मामले प्रेमशीला और संजय कुमार, जाहरा और मुहम्मद अलकमह तथा फहीम आसमा और मोहम्मद फैसल ने सुलह के लिए समय की मांग की। इसके अलावा पांच मामलों में एक-एक पक्ष उपस्थित हुआ। इसके चलते बैठक की अगली तिथि 19 जनवरी नियत कर पक्षकारों को नोटिस भेजे जाने का निर्देश दिया गया। इस मौके पर ऐच्छिक ब्यूरो के सदस्य सर्वेश दूबे, इब्राहिम सेवक, अर्चना उपाध्याय, मौलवी अरसद, डा.एमए खान, महिला आरक्षी इसरावती यादव मौजदू थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस