जागरण संवाददाता, मऊ : शहर के सब्जी मंडी भुजौटी पर फर्म का नवीनीकरण कराए बगैर कारोबार कर रहे व्यापारी व उनके समर्थकों ने शुक्रवार को जमकर हंगामा किया। यह घटना उस वक्त हुई जब एडीएम व उनकी टीम जांच करने मंडी पहुंची थी।

अधिकारियों की टीम के समक्ष व्यापारी ने कई क्विटल टमाटर सड़क पर फेंक दिया। इससे अफरातफरी की स्थिति उत्पन्न हो गई। इस पर एसडीएम ने कड़े तेवर दिखाए तो हंगामा कर रहे व्यापारी मौके से भाग निकले। जांच पड़ताल हुई तो पता चला कि व्यापारी फर्म का नवीनीकरण कराए ही कारोबार कर रहा था। इस पर एडीएम ने मंडी सचिव को व्यापारी के खिलाफ एफआइआर करने का निर्देश दिया। देर शाम मंडी सचिव की तहरीर पर रिपोर्ट भी दर्ज कर ली गई।

कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में मंडी से फुटकर की बिक्री की पूर्णतया पाबंदी लगाई गई है। इसके बावजूद घोसी कोतवाली क्षेत्र के बनकटखुर्द गांव निवासी रामप्रवेश पुत्र जंग बहादुर फुटकर सब्जी का कारोबार करता रहा। एडीएम के.हरि सिंह कई दिन मंडी में भीड़ को देखकर निरीक्षण किए और सख्त हिदायत दिए। इसके बावजूद वह बाज नहीं आ रहा था।

शुक्रवार को एडीएम एएसपी त्रिभुवन नाथ त्रिपाठी के साथ मंडी का निरीक्षण करने पहुंचे। इस दौरान रामप्रवेश के फर्म पर भीड़ ज्यादा थी। इस पर उन्होंने उसे फुटकर बिक्री न करने को कहा। इस पर वह टीम से उलझ गया और हंगामा करने लगा। थोड़ी ही देर में वह अपने फर्म में रखे सारे टमाटर सड़क पर फेंक दिया। इसके बाद एडीएम व टीम ने जब सख्त तेवर दिखाए तो वह भाग निकला। इसके बाद जब उसके फर्म की जांच की गई तो पता चला कि वह रामप्रवेश एंड संस फर्म से अपना सब्जी का कारोबार करता है। इस फर्म की समयावधि खत्म हो चुकी है। यही नहीं इसके आढ़त का पांच लाख रुपया बकाया भी है। वह दूसरे की फर्म जहांगीर एंड कंपनी के नाम से कार्य कर रहा था।

इसे गंभीरता से लेते हुए एडीएम ने मंडी सचिव धर्मेंद्र सिंह को रामप्रवेश के खिलाफ एफआइआर करने का निर्देश दिए। उनके निर्देश पर शहर कोतवाली में एफआइआर दर्ज कर ली गई है। इस संबंध में व्यापारी रामप्रवेश ने बताया कि उनके साथ ज्यादती की जा रही है। उन्होंने अपनी फर्म का नवीनीकरण नहीं कराया है। वह किसान है। खुद अपना माल लाकर बेचता हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप