जागरण संवाददाता, सूरजपुर (मऊ) : घोसी कोतवाली क्षेत्र के बनाफा गांव में मौसी के यहां आए बबलू सोनकर (25) की जर्जर बारजा के मलबे में दबकर मौत हो गई। यह हादसा गुरुवार को उस समय हुआ जब वह सुबह बारजे पर बने शौचालय में शौच करने गया था। आनन-फानन में परिजन उसे इलाज के लिए जिला मुख्यालय ले जा रहे थे मगर रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। जिला मुख्यालय स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

वह गोरखपुर जनपद के बडहलगंज थाने के चिल्लूपार निवासी जवाहिर सोनकर का बेटा था। एक माह से घोसी कोतवाली क्षेत्र के बनाफा गांव में अपने मौसा मोहन सोनकर के यहां रह रहा था। गुरुवार को बारजे पर बने शौचालय में शौच करने बैठा ही था कि कई दिनों से हो रही बारिश के चलते कमजोर पड़ी छत का बारजा शौचालय सहित टूटकर नीचे गिर पड़ा। छत गिरने की आवाज सुनकर लोग अपने घर से बाहर निकले तो देखा कि छत के गिरे मलबे में कोई व्यक्ति कराह रहा है। इसके बाद परिजनों ने उसे बाहर निकालकर अस्पताल पहुंचाया मगर रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। अस्पताल पहुंचने पर डाक्टरों ने उसके मौत की पुष्टि कर दी।

इनसेट--

दो माह पहले हुई थी शादी

बबलू सोनकर का विवाह दो माह पहले बीते 10 जुलाई को आजमगढ़ जनपद के सिउली निजामबाद के मजभीरा गांव निवासी सुजीत सोनकर की पुत्री पूनम सोनकर से हुआ था। बबलू का 26 सितंबर को दुबई जाने का वीजा बना था। वह विदेश जाकर अपने परिवार की आर्थिक स्थिति मजबूत कर अपने पिता का सहारा बनना चाहता था। इसी बीच घायल होने की खबर सुनते ही बबलू सोनकर के माता-पिता चिल्लूपार से बनाफा आ गए। मौत की खबर सुनते ही परिजनों में कोहराम मच गया। माता मालती देवी, पिता जवाहिर सोनकर, पत्नी पूनम देवी, मौसी-मौसा सहित परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप