जागरण संवाददाता, वलीदपुर (मऊ) : बिजली विभाग में उधार के सिदूर से काम चलाया जा रहा है लेकिन विभाग के पास सिदूर के भी पैसे नहीं है। बिजली आपूर्ति बहाली से लेकर किसी भी प्रकार के फाल्ट को दुरुस्त करने में दिन-रात मेहनत करने वाले विद्युत पीटीएस कर्मचारियों को विगत दस महीनों से उनके मानदेय का भुगतान नहीं किया गया है। मामूली मानदेय पर काम करने वाले पीटीएस कर्मियों के समक्ष भुखमरी की स्थिति है। कई बार मानदेय की मांग को लेकर अधिकारियों के यहां चक्कर लगा चुके विभाग के पीटीएस कर्मियों ने 16 जुलाई से हड़ताल पर जाने का एलान किया है।

मुहम्मदाबाद गोहना क्षेत्र में बिजली विभाग का सभी कार्य पीटीएस कर्मियों से चल रहा है।  स्थानीय 33/11 केवीए सब स्टेशन पर मौजूदा समय में आठ पीटीएस कर्मचारी हैं।  उन्हें 5500 रुपये प्रतिमाह मानदेय दिया जाता है। विगत 10 महीनों से सभी कर्मियो का मानदेय का भुगतान बकाया है। पीटीएस कर्मी पप्पू, प्रेम, विनोद, सुरेंद्र  आदि ने बताया कि मानदेय की मांग को लेकर स्थानीय अधिकारियों से लेकर ऊपर तक कई बार गुहार लगाई गई लेकिन अभी तक भुगतान नहीं हुआ है। पप्पू ने कहा कि अधिकारियों द्वारा 15 जुलाई तक बकाया भुगतान कर दिए जाने का आश्वासन दिया गया था, इसकी समय सीमा आज समाप्त हो रही है। कहा कि अगर एक-दो दिन के अंदर बकाया मानदेय का भुगतान नहीं हुआ तो सभी कर्मी हड़ताल कर कार्य बहिष्कार करेंगे। बता दें कि विभाग में रेगुलर कर्मचारियों का टोटा है। किसी भी प्रकार का फाल्ट आने पर पीटीएस कर्मचारी ही मेहनत कर विद्युत आपूर्ति बहाल करते हैं लेकिन 10 महीने से उनके मानदेय का भुगतान ना होना विभाग की लापरवाही और उदासीनता की कार्यशैली दर्शाने के लिए काफी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप