जागरण संवाददाता, मऊ : मां दुर्गा की प्रतिमाओं का विसर्जन रविवार को भी चलता रहा। दोहरीघाट, मुहम्मदाबाद गोहना, कोपागंज व बोझी क्षेत्र में प्रतिमाएं श्रद्धा भक्ति के साथ नदियों में विसर्जित की गई। इस दौरान भक्त गाजे-बाजे व डीजे की भक्ति धुनों पर नाचते-गाते रहे। सुरक्षा के मद्देनजर भारी मात्रा में सुरक्षा बल तैनात किए गए थे। देर शाम शांतिपूर्वक विसर्जन हो जाने पर प्रशासन ने राहत की सांस ली।

कोपागंज संवाददाता के अनुसार नगर क्षेत्र के करीब आधा दर्जन दुर्गा प्रतिमाओं को रविवार की सुबह तमसा नदी में विसर्जित कर दिया गया। आधी रात बाद गाजे-बाजे के साथ दुर्गा विसर्जन जुलूस जब मुख्य चौंक से आगे गुजरा सड़कों पर लोगों की हजूम उमड़ पड़ा। कहीं डांडिया नृत्य तो कहीं आकर्षक झांकी, कहीं डीजे के धुन पर युवाओं की टोलियां सड़कों पर पूरी रात थिरकते रही। सुबह करीब छह बजे सुबह सभी दुर्गा प्रतिमाएं और विसर्जन जुलूस एक-एक कर थाने मोड़ पर पहुंचा। इस दौरान भक्तों के जयकारों से पूरी रात धार्मिक जयकारों से वातावरण गूंजता रहा।

मुहम्मदाबाद गोहना संवाददाता के अनुसार शहीद चौराहा स्थित जय वेदमाता गायत्री क्लब, मुहल्ला हयातनगर गणपति दुर्गा पूजन सेवा समिति, जमीन बरामदपुर, युवक समाज क्लब गोलवरटोला आदि समितियों के पदाधिकारियों द्वारा स्थापित मां दुर्गा की प्रतिमाओं को गाजे-बाजे के साथ विसर्जन किया गया। श्रद्धालुओं ने मां दुर्गा भवानी के हवन-पूजन के बाद मां दुर्गा की प्रतिमा को ट्रैक्टर पर लादकर गाजे-बाजे व डीजे के साथ नाचते-गाते पूरे कस्बे का भ्रमण करते हुए नदी पर पहुंचे।

प्रतिमा जिस तरफ से गुजरी, देखने वालों का तांता लगा रहा। लोग माता जी के नाम का जयकारा लगाते रहे। इस दौरान भक्तगण डीजे की धुन पर नाचते-गाते चल रहे थे। इस दौरान विभिन्न प्रतिमा समिति के पदाधिकारी तथा पुलिस के जवान भी मौजूद थे। शनिवार की देर रात में भी कुछ मूर्तियां तमसा नदी में विसर्जित की गई थी। बोझी संवाददाता के अनुसार अमिला कस्बा स्थित पूर्वी चौक, मध्य चौक एवं पश्चिमी चौक पर स्थापित मां दुर्गा की प्रतिमाओं को पूरे नगर में घुमाया गया। इस दौरान महिलाएं भी पैदल अश्रुपूरित नेत्रों से मां की विदाई की क्षमा याचना मांग कर वापस हुईं। इसके पश्चात प्रतिमाओं को विसर्जन के लिए दोहरीघाट ले जाया गया। दोहरीघाट के अनुसार नगर में रामघाट पर दूसरे दिन रविवार को भी प्रतिमाओं का विसर्जन होता रहा। सामान्य तौर पर रविवार को प्रतिमाओं का विसर्जन नहीं किया जाता है परंतु प्रशासन के कड़े रुख के चलते प्रतिमाओं का विसर्जन हुआ। उप जिलाधिकारी डा. सीएल सोनकर, सीओ नरेश कुमार, मजिस्ट्रेट सुभाष कुमार, थानाध्यक्ष मनोज कुमार सिंह एवं एसएसआई अजीत दुबे मौजूद थे। इनसेट--

जाम में फंसी एंबुलेंस, लोगों ने निकाला

कोपागंज : यूं तो हर वर्ष नगर क्षेत्र में रखे जाने वाले दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन जुलूस बाजार मोड़ पर पहुंचने के बाद पुलिस प्रशासन हाइवे के आवागमन रोके रहता है लेकिन रविवार को दुर्गा प्रतिमाओं के साथ विसर्जन जुलूस हाइवे पर पहुंचा। इसी दौरान अचानक गंभीर हालत में मरीज को लेकर सायरन बजाती एंबुलेंस पहुंच गई और विसर्जन जुलूस के दौरान हाइवे पर पुलिस की नाकेबंदी के दौरान बड़ी संख्या में खड़ी वाहनों के जाम में फंस गई। हालांकि एंबुलेंस में गंभीर मरीज देखकर पुलिस जवानों के साथ दुर्गापूजा समिति के कार्यकर्ताओं ने जाम में फंसी एबुलेंस को आगे जाने के लिए रास्ता बनाया।

Edited By: Jagran