जागरण संवाददाता, मऊ : थाना सरायलखंसी क्षेत्र के चांदमारी इमिलिया मुहल्ले में मऊ-गाजीपुर मार्ग के किनारे गरीब और बेसहारा बुनकरों के लिए सरकार द्वारा बसाई गई बुनकर कालोनी अवैध घुसपैठियों का अड्डा बन गई है। कालोनी के मकान 44 गरीब बुनकरों को आवंटित किए गए थे, लेकिन उसमें हाल ही में 90 अवैध आवंटी चिन्हित किए गए हैं। गैर आवंटी न सिर्फ कालोनी में अनाधिकृत रूप से रह रहे हैं, बल्कि धड़ाधड़ अवैध निर्माण भी कर रहे हैं। समाजसेवी छोटेलाल गांधी ने गैर आवंटियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए मामले को रजिस्टर्ड डाक द्वारा मुख्यमंत्री के दरबार में पहुंचा दिया है।

श्रीगंगा-तमसा सेवा समिति के महामंत्री छोटेलाल गांधी का कहना है कि सरकार ने गरीब बुनकरों के जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए बुनकर कालोनी बनाकर उन्हें निर्मित भवन उपलब्ध कराए थे। सहायक आयुक्त उद्योग हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग अनिल कुमार श्रीवास्तव ने एक जनसूचना के जवाब में कहा है कि केवल बुनकर कालोनी में केवल 44 आवंटी हैं, जबकि 90 से अधिक गैर आवंटी हैं। इनमें से 55 अवैध कब्जेदारों को नोटिस भी विभाग की ओर से दी गई है। समाजसेवी छोटेलाल गांधी ने जिलाधिकारी, मुख्यमंत्री एवं अधिशासी अधिकारी नगर पालिका प्रशासन को रजिस्टर्ड पत्रक भेजकर एक पखवारे के भीतर धनवान दबंगों से बुनकर कालोनी को मुक्त कराने एवं गरीब बुनकरों को कालोनी आवंटित करने की मांग की है। कार्रवाई न होने पर गांधी ने उच्च न्यायालय में न्याय की गुहार लगाने की बात कही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस