जासं, घोसी (मऊ) : बेटी बचाओ-बेटी पड़ाओ से लेकर पावर एंजिल्स एवं महिला हेल्पलाइन बेमानी साबित हो रही हैं। महिलाओं संग छेड़खानी की घटनाएं तो नहीं रुक रहीं अलबत्ता विरोध करने पर पीड़िता के परिजनों की पिटाई अवश्य हो जाती है। छेड़खानी और दबंगई के ऐसे ही एक मामले में पुलिस अधीक्षक के हस्तक्षेप पर कोतवाली पुलिस ने शुक्रवार को अभियोग पंजीकृत किया है।

घोसी से पूरब क्षेत्र की एक बेवा महिला जीवन यापन करने को अमिला क्षेत्र के एक निजी विद्यालय में शिक्षिका का कार्य करती है। वह पास के ही एक गांव में रहती है। सुबह आठ बजे और दोपहर एक बजे शिक्षिका को आते-जाते देख उक्त गांव का युवक श्रीराम छेड़खानी करता है एवं विरोध करने पर जान से मारने की धमकी देता है। पानी सिर से ऊपर होने पर शिक्षिका ने इसकी जानकारी अपने भाई उपेंद्र और माता को दिया। दो नवंबर को भाई उपेंद्र इसकी शिकायत पुलिस को करने जा रहा था। रास्ते में श्रीराम ने उसे मारपीट कर घायल कर दिया। पीड़िता चक्कर लगाती रही पर बात न बनी तो पुलिस अधीक्षक तक पहुंची। बहरहाल पुलिस ने उसके विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप