जागरण संवाददाता, मधुबन (मऊ) : फतहपुर मंडाव ब्लाक के ग्रामसभा दरगाह में बुधवार की दोपहर खुली बैठक प्राथमिक विद्यालय भाग दो पर हुई। इसमें जांच अधिकारी अनिल कुमार पांडेय एवं टीम ने 2020-21 में गांव में नाली, खड़ंजा, चकमार्ग आदि के कराए गए विकास कार्यों का सत्यापन किया। जांच टीम द्वारा कुल 34 कार्यों को ग्रामीणों के सामने एक-एक कर पढ़ा गया और ग्रामीणों से पूछा गया कि यह कार्य हुए हैं या नहीं। 34 कार्यों में 12 कार्य ऐसे पाए गए जिसकी ग्रामीणों द्वारा कोई पुष्टि नहीं की जा सकी। वहीं चार कार्य अधूरे पाए गए जबकि पूरा भुगतान हो चूका था। जांच अधिकारी अपनी रिपोर्ट जिला को प्रेषित करेंगे।

बैठक में आवास के लाभार्थियों का भी सत्यापन हुआ। वित्तीय वर्ष 20-21 में कुल 24 लोगों को आवास आवंटित हुए थे। इसमें दो लाभार्थी बिदु पत्नी अवधेश एवं राजू पुत्र शफी ऐसे पात्र मिले जिनको आवास तो मिला मगर उन्हें पता ही नहीं कि उन्हें आवास मिला है। खास बात यह रही कि भुगतान भी हो चुका है। अब यह जांच का विषय है कि उन दोनों आवास के पैसे आखिर किस खाते में गए और कैसे भुगतान हुआ। शेष 22 आवास सही पाए गए, मगर लाभार्थियों की शिकायत थी कि उन्हें आवास का पैसा तो मिल गया है मगर मजदूरी अब तक नहीं मिली है। जांच अधिकारी ने उन्हें भरोसा दिलाया कि इस संबंध में वह अपनी रिपोर्ट उच्च अधिकारी को देंगे और समस्या का समाधान हो जाएगा। इस अवसर पर ग्राम प्रधान लक्ष्मण वर्मा, सुजीत गुप्त, मौलाना महबूब, नन्हे अंसारी, हीरा प्रसाद बड़े बाबू, अवधेश वर्मा, हरि राजभर, कमलेश धोबी आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran