मऊ, जागरण संवाददाता। मऊ में शहर कोतवाली के भींटी क्षेत्र निवासी किशोरी के दुष्कर्म करने व देह व्यापार में धकेलने के मामले में पुलिस अधीक्षक अविनाश पांडेय ने गिरफ्तार तीनों आरोपितों पर पाक्सो एक्ट की बढ़ोत्तरी कर दी है। किशोरी को बरामद कर आरोपितों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को दस हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा की गई है। वहीं इस मामले में जयनगर थाने के पुलिस कर्मियों की संलिप्‍तता की भी जांच की जा रही है।

जिन लोगों पर पाक्सो एक्ट लगा है, उसमें बिहार प्रांत के मधुबनी जिले के खोजौली क्षेत्र के छपराडीह निवासी प्रमोद कुमार यादव, बसुआर निवासी सोनी देवी व जयनगर थाना के गरहीटोला निवासी साजन उर्फ सज्जन शामिल हैं। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि बीते 23 जुलाई को किशोरीअपने घर वालों से नाराज होकर अपनी नानी के घर बलिया जाने के लिए ट्रेन में चढ़ी थी। यात्रा के दौरान उसको नींद आ गई। इसकी वजह से वह मधुबनी बिहार पहुंच गई। यहां पर उससे प्रमोद यादव मिल गया।

उसको नानी के घर पहुंचाने का वादा कर झांसे में ले लिया। इसके बाद उसने शांती उर्फ सोनी के यहां भेज दिया। यहां कई लोगों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। एसपी ने बताया कि मधुबनी में एक पूरा गैंग है। गैंग इस प्रकार से घर से गई बालिकाओं को लुभाकर देह व्यापार जैसे घृणित कृत्यों में धकेलने का कार्य करते हैं। इसमें जनपद मधुबनी के जयनगर थाने के कार्मिकों का नाम भी सामने आया है।

प्रकरण का पर्दाफाश करने, विवेचना एंव गिरफ्तारी में चौकी प्रभारी भीटी आदर्श श्रीवास्तव व टीम द्वारा सराहनीय कार्य किया गया है। इसके लिए टीम को पुरस्कृत किया जा रहा है। दुष्कर्म के अलावा सभी अभियुक्तों पर पाक्सो एक्ट की धारा बढ़ाकर जेल भेज दिया गया है। एसपी ने बताया कि मधुबनी के पुलिस अधीक्षक ने इस प्रकरण में पूरा सहयोग किया है।

Edited By: Abhishek sharma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट