जागरण संवाददाता, मऊ : कोरोना काल में आर्थिक मंदी व बेरोजगारी की मार झेल रहे लोगों को उबारने के लिए शासन ने कमर कस लिया है। जनपद में धान की खेती को बढ़ावा देने के लिए शासन ने अनुदान देने की व्यवस्था की है। यानी धान व ढैचा का बीज खरीदने पर 50 फीसद अनुदान किसानों को मिलेगा। यह बीज जनपद के सभी राजकीय बीज गोदामों पर पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। किसान यहां से आसानी से बीज ले सकते हैं। जनपद के किसान युद्धस्तर पर नर्सरी डाल रहे हैं। कुछ किसान अभी नर्सरी डाल रहे हैं। ऐसे में शासन की तरफ से किसानों को रियायत दर पर धान व ढैंचा का बीज उपलब्ध कराया जा रहा है। जनपद में कुल 552 क्विटल धान व 400 क्विटल ढैंचा का बीज आ चुका है। इसमें मोटी प्रजाति के धान का बीज 3480 रुपये प्रति क्विटल व महीन प्रजाति का धान का बीज 3510 रुपये प्रति क्विटल के हिसाब से मिल रहा है। बासमती का बीज 4380 रुपये प्रति क्विटल दिया जा रहा है। इसी प्रकार ढैंचा का बीज 5500 रुपये प्रति क्विटल की दर से गोदामों पर उपलब्ध हैं।

------------

ऐसे करें बोवाई ..

ढैंचा के बोवाई के लिए मई से जून के महीने में हल्की बारिश के बाद इनकी बोवाई कर सकते हैं। हल्की बारिश के बाद या फिर हल्की सिचाई करके जुताई कर बीज छिड़क दिया जाता है। ढैंचा के हरी खाद को प्रति हेक्टेयर 60 किलो बीज की जरूरत होती है। इसके बोने के बाद धान की खेती लहलहाती है।

--------------

वर्जन

किसान किसी भी राजकीय बीज भंडार से बीज ले सकते हैं। अगर उन्हें कोई दिक्कत आती है तो जिला कृषि अधिकारी या उनसे संपर्क कर सकते हैं। उनकी समस्याओं का समाधान किया जाएगा।

-एसपी श्रीवास्तव, उपनिदेशक कृषि

Edited By: Jagran