मथुरा, जासं। मांट के खादरों में स्थित राधारानी मंदिर के समीप बने मानसरोवर कुंड का पानी जहरीला हो गया। एक ही रात में कुंड में विचरण करने वाले जीव-जंतु ही नहीं पानी पीने वाले कौवा, कबूतर आदि पक्षी भी मर गए। मंदिर के पुजारी ने इलाका पुलिस, वन विभाग और प्रशासन को सूचना दी पर कोई नहीं पहुंचा। लोगों ने मृत जीव-जंतुओं को बाहर निकाल गड्ढा खोदकर दबा दिया।

राधारानी मंदिर के पुजारी रामप्रकाश शर्मा एडवोकेट गुरुवार सुबह चार बजे जब मंदिर पहुंचे तो देखा कि मानसरोवर कुंड में मछलियां मृत अवस्था में एक ओर तैर रही है। दिन का उजाला हुआ तो कछुआ, सांप और मेंढक आदि भी पानी में मृत दिखे तो लोगों की भीड़ लग गई। लोगों ने मृत मछलियां आदि को बाहर निकाला गड्ढे में दबा दिया। मंदिर की ओर से कुंड के आसपास कारसेवक तैनात कर दिए गए हैं। वह लोगों को कुंड में आचमन और पशुओं को पानी पीने से रोकेंगे। -नहीं मिला शुद्ध पानी:-मांट ब्रांच नहर से मानसरोवर कुंड को शुद्ध पानी दिए जाने के आदेश पूर्व में किए गए थे। इसके लिए स्वयं ब्रज तीर्थ विकास परिषद के उपाध्यक्ष शैलाकांत मिश्रा ने प्रयास किए। मंदिर के पुजारी रामप्रकाश शर्मा ने बताया कि स्वच्छ पेयजल न भरे जाने के कारण पानी सड़ गया है। इसमें कोई जहरीला कैमिकल मिल जाने के कारण जलीय जीव मर गए। -संज्ञान में आया है कि मांट स्थित मानसरोवर कुंड में मछलियां मर गई हैं। दिन में मौके पर जाकर निरीक्षण किया जाएगा। पानी का सैंपल जांच के लिए भरा जाएगा। पानी की टेस्टिग से ही पता चल सकेगा कि वास्तव में उसका जहरीला तत्व क्या है।

डॉ. अरविद कुमार, क्षेत्रीय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड -मानसरोवर कुंड का पानी जहरीला हो जाने के कारण जलीय जीव-जंतुओं की बड़ी संख्या में मौत हो गई। अधिकारियों को जानकारी दे दी गई है पर कोई सुधि लेने नहीं आया।

रामप्रकाश शर्मा, पुजारी

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस