मथुरा, विनीत मिश्र। ये अफसरों की संवेदनहीनता का उदाहरण है। वृंदावन में ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर मार्ग पर गुरुवार सुबह वर्षा के दौरान केबल बक्‍सा में करंट से तीन गायों की मौत हो गई। जिन जिम्मेदार अफसरों पर व्यवस्था की जिम्मेदारी है, वह तीन गायों की मृत्यु पर झांकने तक नहीं गए। विभाग के सभी अफसर कर्मचारियों संग अधिशाषी अभियंता की बर्थडे पार्टी के मजे लेते रहे।

ठा. बांकेबिहारी मंदिर मार्ग पर गुरुवार सुबह अंडरग्राउंड विद्युत बाक्स में करंट की चपेट में आकर तीन गाय ने तड़पकर दम तोड़ दिया। बिजली विभाग के खिलाफ लोगों ने प्रदर्शन किया। लेकिन अफसर मौके पर झांकने तक नहीं गए। गुरुवार को ही विभाग के अधिशासी अभियंता अनिल कुमार कपिल का जन्मदिन था। कार्यालय में मातहत उनके जन्मदिन पर पार्टी की तैयारियों में सुबह से जुटे थे। पागल बाबा मंदिर के समीप स्थित विद्युत सबस्टेशन के कार्यालय को सजाया गया। दोपहर को एसई सुबोध कुमार भी बर्थडे पार्टी मनाने पहुंचे। उनकी मौजूदगी में अनिल कुमार कपिल ने केक काटा तो अधीनस्थ ने बधाई देकर खूब ताली बजाईं। इसके बाद बर्थ डे पार्टी चलती रही। पार्टी में भोजन की भी व्यवस्था थी। अध‍िशासी अभियंता अनिल कुमार कपिल का कहना था क‍ि बांके बिहारी मंदिर मार्ग पर विद्युत बाक्स को समय-समय पर पालीथिन से पैक कर दिया जाता है। लेकिन, लोग खोल ले जाते हैं। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी और राधाष्टमी पर भी पैक करवाए थे। इसके लिए उचित व्यवस्था की जाएगी।

ये थी घटना

वृंदावन में ठा. बांकेबिहारी मंदिर मार्ग के तेलीपाड़ा मुहल्ले में लगे अंडरग्राउंड बिजली लाइन के बाक्स में गुरुवार सुबह वर्षा के दौरान करंट दौड़ गया। इसी दौरान बाक्स के समीप से गुजर रही गाय खुले पड़े तारों की चपेट में आ गईं। आसपास के लोग डंडा लेकर दौड़े। बिजली बाक्स से निकले नंगे तारों को गायों से दूर करने लगे। लेकिन तब तक उनकी मृत्यु हो गई। गायों की मौत के बाद लोगों में आक्रोश पनप गया। गनीमत रही कि वर्षा के कारण श्रद्धालुओं की आवाजाही नहीं थी, वरना बड़ी दुर्घटना हो सकती थी। करंट की चपेट में आई गायों की मौत के बाद मौके पर पहुंचे गोसेवा मिशन के पदाधिकारी डा. गोविंद सिंह ने अपने साथियों संग मृत गोवंश के मुंह में गंगाजल डाला, चंदन लगाया और धोती व शाल ओढ़ाकर जेसीबी की मदद से वाहन में ले जाकर गो समाधि स्थल पर अंतिम संस्कार किया।

हमें तो पता ही नहीं

अधीक्षण अभियंता सुबोध कुमार से शुक्रवार दोपहर को जागरण ने बात की। अभियंता ने बताया क‍ि उन्‍हें गायों के मरने की जानकारी ही नहीं है। वे तो अधिशासी अभियंता के बर्थडे में गया था। अब पता करता हूं। 

Edited By: Tanu Gupta