संवाद सहयोगी, मथुरा : मुरैना निवासी धर्मेंद्र चित्तौड़गढ़ में नौकरी करते हैं। वह लॉकडाउन के कारण नौकरी पर नहीं जा पा रहे थे। ट्रेनों का संचालन शुरू होने पर नौकरी पर पहुंचना आसान हो सका। अहमदाबाद निवासी सतीश स्वजनों के साथ घूमने आए थे। लॉकडाउन के कारण ट्रेनों का संचालन बंद हो गया। इसके कारण वह आगरा में स्वजनों के यहां रहने को मजबूर हुए। कोटा निवासी राजेश की पत्नी मार्च में अपने घर इगलास आई थीं। मंगलवार को राजेश उन्हें लेने आए थे। ट्रेन संचालन शुरू हुआ तो ऐसे कई लोगों की समस्या का समाधान हो सका।

लॉकडाउन के बाद सोमवार से ट्रेनों का संचालन आरंभ हो गया। मंगलवार को यात्रियों की संख्या भी अधिक रही। सोमवार को 675 यात्रियों की तुलना में शाम तक 1209 यात्री ट्रेनों से आवागमन कर चुके थे। तेलंगाना एक्सप्रेस में नौ यात्री चढ़े और 115 उतरे थे। पश्चिम एक्सप्रेस में 18 यात्री चढ़े और 172 यात्री उतरे। गुजरात संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में 12 यात्री चढ़े और 298 उतरे। इसी तरह सचखंड में 17 यात्री चढ़े और 223 यात्री उतरे। जनशताब्दी एक्सप्रेस में भी 155 यात्री चढ़े और 190 यात्री उतरे। प्लेटफार्म पर शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए जीआरपी, आरपीएफ, रेलवे स्टाफ सतर्क रहा। यात्रियों को पहले उतरने दिया गया, फिर चढ़ाया गया। बसों में भी सवार हुए यात्री

मथुरा : रोडवेज बसों में भी यात्रियों की संख्या में वृद्धि हुई। मंगलवार को 22 बस चलाई गईं और इनमें करीब 660 यात्रियों ने सफर किया। बसों में यात्रियों को मास्क लगाने को कहा जा रहा है। चालक-परिचालक भी मास्क, ग्लब्स, सैनिटाइजर का प्रयोग कर रहे हैं। एसएस संतोष कुमार ने बताया कि मंगलवार को शाम तक 22 बस चलाई गई हैं।

Edited By: Jagran