संवादसूत्र, सुरीर: सुरीर के थोक कलां में हुए विस्फोट की जांच में इलाका पुलिस का झूठ भी सामने आ गया। रविवार को मुख्य अग्निशमन अधिकारी और बम निरोधक दस्ता ने घटनास्थल की पड़ताल की। जांच में साफ हो गया, विस्फोट के समय पटाखा निर्माण का काम नहीं चल रहा था। पटाखा बनाने के लिए कमरे में कच्ची सामग्री जमा की गई थी। गांव के एक तालाब में भी बड़ी मात्रा में अधबने हुए पटाखे मिले।

सुरीर के थोक कला में शनिवार की रात को जोगेंद्र सिंह के मकान में आतिशबाजी के लिए पोटाश, गंधक और बारूद के स्टॉक में विस्फोट हो गया था। इसमें जोगेंद्र की मौत हो गई और छह लोग घायल हो गए थे। इस मामले में एसएसआइ विजय बहादुर ने कोतवाली में आठ लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट कराई थी। इन पर आरोप था कि सभी मिलकर आतिशबाजी बना रहे थे और विस्फोट हो गया। घटना की जांच एसएसपी डॉ. गौरव ग्रोवर ने मुख्य अग्निशमन अधिकारी प्रमोद शर्मा को सौंपी थी। रविवार को सीएफओ जांच करने के लिए सुरीर गए और सभी घायलों के अलग-अलग बयान भी दर्ज किए। सीएफओ ने बताया कि घटना के समय आतिशबाजी बनाने का कार्य होने संबंधी कोई तथ्य नहीं मिले है। उनका कहना था कि सोमवार तक वह अपनी जांच रिपोर्ट एसएसपी को सौंप देंगे। बम निरोधक दस्ता ने भी घटनास्थल की छानबीन की। मलबा के नीचे से कुछ विस्फोट सामग्री भी टीम को मिली। बम निरोधक दस्ता के प्रभारी एसआइ वीरेंद्र सिंह ने आतिशबाजी निर्माण के समय विस्फोट नहीं हुआ था। विस्फोट के दूसरे कारण हो सकते हैं। टीम अपने साथ मलबे से मिली विस्फोटक सामग्री को ले गई। इंस्पेक्टर महाराज सिंह भाटी ने बताया कि घटनास्थल से आज उनको कोई विस्फोटक सामग्री नहीं मिली है। घटना के बाद जो सामग्री बरामद हुई थी। उसको जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा जाएगा। -- तालाब में फेंके अधबने पटाखा

एक तालाब में भारी मात्रा में अधबने पटाखे भी मिले। इनको कोई तालाब में फेंक गया था। अभी तक जांच में स्पष्ट नहीं हो सका है। माना यह जा रहा है कि विस्फोट की घटना के बाद किसी ने डर के कारण पटाखे तलाब में फेंक दिए हैं। --- पीड़ितों की होगी हर संभव मदद

मांट विधान सभा क्षेत्र के विधायक श्याम सुंदर शर्मा रविवार को विस्फोट में मारे गए जोगेंद्र के घर पहुंचे और पीड़ितों की हर संभव मदद किए जाने का आश्वासन दिया। विधायक ने कहा कि धमाके की घटना में जिन बेकसूर लोगों को नामजद किया गया है। उनका नाम भी मुकदमा से निकलवाया जाएगा। जिन लोगों को नुकसान हुआ। उनको मुआवजा दिलाने की मांग शासन में रखेंगे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस