मथुरा, जासं। काफी जिद्दोजहद और तीन रिमाइंडर के बाद बेसिक शिक्षा विभाग ने बीएड की फर्जी डिग्री के दम पर नौकरी कर रहे शिक्षकों की संख्या घोषित कर दी है। मथुरा में 58 फर्जी शिक्षक नौकरी कर रहे हैं। हालांकि विभाग ने नाम स्पष्ट नहीं किए है। विभाग का कहना है कि इसी हफ्ते नाम स्पष्ट कर सभी फर्जी शिक्षकों को नोटिस जारी कर दिए जाएंगे।

वर्ष 2016 में एसआइटी की जांच में 4700 सौ नाम ऐसे सामने आए थे। इन्होंने डॉ. भीमराव आंबेडकर विवि से वर्ष 2004-05 की फर्जी की डिग्री के दम पर नौकरी हासिल की । मथुरा में भी जांच में 54 नाम चिन्हित किए गए। पिछले वर्ष इस पूरे प्रकरण में एसआइटी ने नई सूची जारी की, जिसमें फर्जी बीएड धारकों की संख्या कुछ बढ़ गई थी। बेसिक शिक्षा सचिव ने यह सीडी प्रदेश के सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को उपलब्ध कराई और 15 जनवरी तक सभी जिलों में कार्यरत बीएड के फर्जी शिक्षकों की सूची तलब करने के निर्देश दिए। मथुरा में विभाग ने इन नामों को चिन्हित करने में काफी देरी की।

तीन नोटिस मिलने के बाद 58 नाम चिन्हित किए हैं। विभागीय सूत्र दावा कर रह हैं कि इस संख्या में कुछ घपला है। यह संख्या 80-100 के आस-पास होनी चाहिए। माना जा रहा है कि जो नाम पहले चिन्हित किए गए हैं, उसमें ही कुछ नाम बढ़ाए गए हैं। बीएसए चंद्रशेखर का कहना है कि बीएड की फर्जी डिग्री के दम पर नौकरी करने वाले 58 नाम चिन्हित किए गए हैं। इसी हफ्ते नाम स्पष्ट कर नोटिस जारी किए जाएंगे। यह है ब्लॉक में फर्जी शिक्षकों की संख्या-

ब्लॉक-संख्या

बलदेव-7

मथुरा-7

गोवर्धन-5

फरह-8

मांट-8

राया-10

छाता-4

चौमुहां-2

नौहझील-7

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस