बलदेव (मथुरा), संसू। भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के बाद अब बलदेव नगरी भगवान श्रीकृष्ण के बड़े भाई दाऊजी महाराज के रंग में रंगने वाली है। बलदेव छठ पर चार सितंबर को दिनभर कार्यक्रमों की धूम रहेगी। नौ दिवसीय बलदेव छठ महोत्सव 27 अगस्त से श्रीमद्भागवत कथा से आरंभ होगा। छठ पर बलदेव महाराज का श्रृंगार हीरे व अन्य रत्नों से किया जाएगा। नीले रंग की पोशाक हाथरस में तैयार हो रही है।

बलदेव में बलदाऊ महाराज की छठी की धूम आरंभ हो रही है। इस मौके पर मंदिर को नयनाभिराम सजाया जाएगा। हजारों श्रद्धालु महोत्सव में शामिल होते हैं। बलदेव महाराज की नीले रंग की पोशाक श्रद्धालुओं को आकर्षित करेगी। झिलमिल सजावट मंदिर में चार-चांद लगाएगी। मंदिर में बलदेव छठ की तैयारियां आरंभ हो गई हैं। 27 अगस्त से तीन सितंबर तक दोपहर तीन बजे से शाम सात बजे तक श्रीमद्भागवत कथा होगी। चार सितंबर को बलदेव छठ पर दिनभर आयोजन होंगे। हालाकि स्थानीय लोग चाहते हैं कि बलदेव छठ पर मंदिर और आसपास के क्षेत्र में प्रशासन ऐसी सजावट कराए जैसी मथुरा में कराई गई थी। पत्रकारवार्ता में मंदिर रिसीवर आरके पांडेय ने बताया कि नौ दिवसीय बलदेव छठ महोत्सव 27 अगस्त से आरंभ हो रहा है। चार सितंबर को छठ पर दिनभर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

बलदेव छठ पर यह होंगे आयोजन:

- मंगला दर्शन सुबह चार बजे

- शहनाई वादन सुबह पांच बजे से

- श्रृंगार दर्शन सुबह साढ़े पांच बजे से

- बाल भोग और आरती सुबह छह बजे से

- बलभद्र महायज्ञ सुबह सात बजे से

- जन्मोत्सव अभिषेक दोपहर 12 बजे से

- राजभोग और दिव्य आरती दोपहर 12.30 बजे

- अधिकांधा उत्सव दोपहर एक बजे से

- उत्थापन और लड्डू महाभोग दोपहर तीन बजे से

- शोभायात्रा शाम चार बजे से

- गोष्ठी और सांस्कृतिक कार्यक्रम शाम छह बजे से

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप