जागरण संवाददाता, मथुरा: राया-बलदेव मार्ग पर सोमवार की रात को पुलिस और बदमाश का आमना-सामना हो गया। दोनों तरफ से फाय¨रग में सिपाही और बदमाश घायल हो गया। हत्थे चढ़ा बदमाश हत्या और डकैती में वांछित चल रहा था।

थाना महावन क्षेत्र में वर्ष 2016 में यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे गांव किशनपुर में किसान के यहां से डकैत एक दर्जन भैंस लूटकर ले गए थे और एक ग्रामीण की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले में मैनपुरी के थाना घिरोर क्षेत्र के गांव बड़ाहर निवासी जुम्मन उर्फ जुम्मा और उसका भाई देशू फरार चल रहे थे। जुम्मन की गिरफ्तारी पर बीस हजार रुपये का इनाम घोषित था। पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश दे रही थी। सोमवार की रात करीब आठ बजे जुम्मन राया से बलदेव के लिए बाइक से आ रहा था। एसएसपी स्वप्निल ममगाई को खबर मिली थी। एसएसपी ने स्वाट प्रभारी हर¨वद्र मिश्रा, बलदेव एसओ सूरज प्रकाश शर्मा, एसओ महावन की टीम को बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए लगाया। सीओ महावन आलोक दुबे को भी टीम का नेतृत्व करने के लिए भेजा गया।

बलदेव से करीब एक किलोमीटर दूर हनुमान मंदिर के समीप बाइक से आ रहे जुम्मन को पुलिस ने रोकने की कोशिश की। जुम्मन ने बाइक से उतर कर पुलिस को निशाना बनाकर ताबड़तोड़ फाय¨रग कर दी। गोली लगने से बलदेव थाने में तैनात सिपाही राकेश घायल हो गया। सिपाही के घायल होते ही पुलिस ने भी गोलियां दाग दीं। जुम्मन के पैर में गोली लग गई और वह घायल होकर वही गिर गया। पुलिस ने उसको गिरफ्तार कर लिया।

एसएसपी ने बताया कि किशनपुर गांव में डकैती डालकर भैंस ले गए थे और किसान की हत्या के मामले में जुम्मन उर्फ जुम्मा और उसका भाई फरार चल रहे थे। दोनों पर पहले से ही इनाम घोषित था। जुम्मन पर बाद में इनाम बढ़ाकर बीस हजार रुपये कर दिया गया था। घायल बदमाश को गिरफ्तार कर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उसके भाई की तलाश कराई जा रही है।

By Jagran