संवाद सूत्र, बाजना (मथुरा): नए कृषि सुधार कानूनों को लेकर गुरुवार को किसान कल्याण समिति के बैनर तले यमुना एक्सप्रेस वे पर चढ़ने की कोशिश कर रहे किसानों को पुलिस ने रोक दिया। गुस्साए किसान बाजना-गोमत मार्ग पर धरने देकर बैठ गए,जिससे यातायात ठप हो गया। करीब 45 मिनट तक किसान हंगामा करते रहे। इसके बाद वह धरना स्थल से हटे। समिति ने प्रतिदिन यमुना एक्सप्रेस वे पर शांति मार्च किए जाने का एलान किया है।

नए कृषि सुधार कानूनों के विरोध में किसान दिल्ली में धरना दे रहे हैं। उनके समर्थन में किसान कल्याण समिति भी उतर आई। बाजना इंटर कालेज बाजना के मैदान में किसान धरना दे रहे हैं। 20 जनवरी 2009 को बाजना में हुए आंदोलन में पुलिस और किसानों के बीच टकराव हो गया था। इसमें किसान गणेश की मौत हो गई थी। किसान गणेश का शहीद दिवस मनाया गया। किसान कल्याण समिति ने यमुना एक्सप्रेस वे पर चढ़कर शांति मार्च निकालने की कोशिश की। पुलिस ने किसानों को एक्सप्रेस वे पर चढ़ने से रोक दिया। इससे गुस्साए किसान बाजना-गोमत मार्ग पर धरने देकर बैठ गए। पौन घंटे तक यमुना एक्सप्रेस वे पर चढ़कर शांति मार्च करने की जिद पर किसान अड़े रहे। एसपी देहात श्रीश्चंद्र, एसडीएम मांट श्याम अवध चौहान और सीओ मांट धर्मेंद्र चौहान ने किसानों को समझाया। इसके बाद किसान मार्ग से हटे। इस बीच गोमत-बाजना मार्ग पर जाम लग गया। वाहनों की लंबी कतार लग गई। करीब एक घंटे बाद यातायात सामान्य हो सका। इससे पहले धरने को संबोधित करते हुए किसान कल्याण समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामबाबू सिंह ने कहा, भाजपा सरकार किसानों का दर्द नहीं समझती है। कई किसान आंदोलन में शहीद हो चुके हैं। कृषि सुधार कानूनों को वापस नहीं लिया गया है। उनको कुछ समय के लिए लागू नहीं करने की बात कही जा रही है। उन्होंने कहा, जब तक किसानों की मांग पूरी नहीं होगी, तब तक धरना जारी रहेगा। धरने को अमर सिंह प्रधान, जगदीश प्रसाद, बदन सिंह, हरिराम सिंह, भूरा प्रधान ने संबोधित किया। अध्यक्षता चौधरी मंगल सिंह और संचालन जयपाल सिंह ने किया।

चला भंडारा : बाजना इंटर कालेज बाजना के मैदान में धरने पर बैठे किसानों ने भी दिल्ली में आंदोलित किसानों की तरह भंडारा चलाया। सर्दी पाले और बरसात से बचाने के लिए किसानों ने वाटरप्रूफ टेंट की व्यवस्था की है।

महिला ने लगाए अन्याय किए जाने के आरोप : किसान कल्याण समिति के धरने में उस समय भीड़ चौंक गई, जब समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामबाबू सिंह के गांव कटैलिया की एक विधवा महिला अनीता धरना स्थल पर अपने नाबालिग पुत्र को लेकर पहुंची। भीड़ के बीच महिला ने राष्ट्रीय अध्यक्ष कटैलिया पर अपने दोषी देवर का साथ देने का आरोप लगाया। महिला ने धरनास्थल पर ही विषाक्त पदार्थ खाकर खुदकुशी करने की धमकी दी। कहा, वह उसके साथ अन्याय कर रहे हैं। न्याय की बात नहीं कर रहे हैं। रामबाबू और महिला के बीच हुई तकरार में एक दूसरे के ऊपर आरोप भी लगाए गए। महिला की पिटाई किए जाने की बात कहने पर उसका नाबालिग बेटा भी भड़क उठा।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप