संवाद सूत्र, बाजना (मथुरा): मानागढ़ी और बरौठ में गुरुवार को बुलाई गई किसान पंचायत में रालोद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने सीधे भाजपा पर हमला बोला और कहा कि सांसद को किसानों के दर्द से कोई मतलब नहीं है। किसान पंचायत में शामिल होने के लिए सांसद को सोशल मीडिया के माध्यम से आमंत्रित किया, लेकिन वह नहीं आईं। इसके साथ ही कृषि सुधार कानूनों को काला कानून बताया।

जिले की तहसील मांट क्षेत्र के गांव मानागढ़ी और बरौठ में आयोजित किसान पंचायत में पूर्व सांसद जयंत चौधरी ने सांसद हेमामालिनी का नाम लिया। कहा, जिस दल की सरकार केंद्र और प्रदेश में हैं। उसी दल की सांसद है। सांसद ने मानागढ़ी गांव गोद लिया था। मगर, वह यहां से 1400 किलोमीटर दूर मुंबई में रहती हैं। सांसद को किसानों की समस्या और उनके दर्द से कोई मतलब नहीं हैं। केंद्र सरकार ने जो तीन नए कृषि सुधार कानून बनाए हैं, वे काले कानून हैं और किसान इसका विरोध कर रहे हैं। अन्नदाता को भगवान का स्वरूप बताते हुए कहा कि जब भगवान ही रूठ गया, तो इस सरकार की खैर नहीं। उन्होंने क्षेत्रीय किसानों की तारीफ की और कहा, वह बड़े से बड़ा मसला बैठकर आपस से सुलझा लेते हैं। रालोद नेता योगेश नौहवार ने कहा, केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार को किसानों की परीक्षा लेना अब बंद कर देना चाहिए। भाजपा भूल रही है, जिस अन्नदाता के आशीर्वाद से वह सत्ता पर काबिज हुई है, जब वह अपना रौद्र रूप दिखाएंगे तो क्या होगा। पंचायत को कुंवर नरेंद्र सिंह, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष चेतन मलिक, राजेंद्र सिकरवार, राजपाल सिंह भरंगर, रविद्र नरवार, भगवती प्रसाद चेयरमैन, जगपाल चेयरमैन, मनोज शर्मा, रामवीर सिंह, सुधीर प्रधान ने भी संबोधित किया। संचालन भगवती प्रसाद ने किया।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप