मथुरा, जागरण टीम। बुलंदशहर से छह जनवरी को अगवा की गई किशोरी का शव सोमवार रात निचली मांट ब्रांच खंड गंग नहर में गांव केहरी गढ़ी के निकट पुल में अटका हुआ मिला। हत्या कर शव को नहर को फेंका में गया था। इस मामले में बुलंदशहर के थाना के गुलावठी तीन युवकों के विरुद्ध किशोरी को अगवा किए जाने का मुकदमा भी दर्ज है। बुलंदशहर पुलिस ने तीनों युवकों को गिरफ्तार कर जेल भी भेज दिया।

किशोरी को किया था अगवा

बुलंदशहर के थाना गुलावठी क्षेत्र के गांव आसिफाबाद चंद्रपुरा निवासी युसूफ की पंद्रह वर्षीय पुत्री मन्ताशा छह जनवरी की रात करीब 11 बजे घर से बाहर शौच के लिए आई थी। गांव के ही मुनाफ और सद्दाम और काबरा निवासी बिलाल के साथ मिलकर किशोरी को अगवा कर लिया गया था। तीनों किशोरी को जबरन गाड़ी में डाल कर ले गए थे। रात करीब नौ बजे किशोरी का शव गांव केहरी गढ़ी के समीप निचली मांट ब्रांच खंड गंग नहर के पुल में अटका मिला। नहर में किशोरी के शव मिलने की सूचना पर थाना प्रभारी राया ओम हरि वाजपेयी और थाना जमुनापार पुलिस प्रभारी सूरज प्रकाश मौके पर पहुंच गए।

सोशल मीडिया से हुई किशोरी की पहचान

थाना राया प्रभारी ओम हरि वाजपेयी ने पुलिस टीम के साथ किशोरी के शव को बाहर निकलवाया। थाना प्रभारी ने बताया, इंटरनेट मीडिया के माध्यम से पुलिस के ग्रुप पर किशोरी के शव फोटो शेयर किए गए। इसके साथ ही रेंज में भी वायरलेस कराया गया। इस बीच गुलावठी थाने की पुलिस ने किशोरी के शव की पहचान की। मंगलवार की सुबह मरने वाली किशोरी के स्वजन थाना राया पहुंचे।

ये भी पढ़ें...

Ram Rahim Singh: पैरोल पर आए डेरा प्रमुख ने तलवार से काटा केक, मनाई खुशियां, हनीप्रीत के साथ चलाया सफाई अभियान

गुलावठी पुलिस भी आ गई। किशोरी की पहचान मन्ताशा के रूप में की गई। पीड़ित ने बताया, उनकी बेटी की हत्या की गई है। शव को नहर में फेंक दिया गया। उन्होंने कहा कि आरोपितों को बेटी के हत्या के आरोप में कठोर सजा मिलनी चाहिए। 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट