जागरण संवाददाता, मथुरा: नहर और नालों की सफाई नहीं हुई है। वर्षा के पानी की निकासी नहीं हो पा रही है। हजारों एकड़ फसल डूबी हुई है। जलभराव बना रहा तो रबी फसलों की भी बुवाई नहीं हो सकेगी। ¨सचाई विभाग के अफसर सुनवाई नहीं कर रहे हैं। पिछली बैठक में उठे मुद्दों पर भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

सोमवार को राजीव भवन के सभागार में बुलाई ¨सचाई बंधु की बैठक में भी किसानों ने यही मुद्दे उठाए, लेकिन लोअर खंड आगरा कैनाल के जेई पवन कुमार वाष्र्णेय कोई जवाब न सके। इस पर ¨सचाई बंधु अध्यक्ष सुधीर रावत और सीडीओ रामनिवास ने जेई को बैठक से बाहर निकाल दिया। साथ ही एई के न पहुंचने पर नाराजगी जताई। ¨सचाई विभाग के नोडल अधिकारी, अधिशासी अभियंता मांट ब्रांच को भी समस्याओं का निस्तारण न करने पर फटकार लगाई गई। वहीं किसानों ने ग्रामीणों के बीच संघर्ष की नींव रखने का एसडीओ पर आरोप भी लगाया है। जिखनगांव ड्रेन को कब्जा मुक्त कराने के मामले में एसडीओ ग्रामीणों में संघर्ष कराने नीति अपना रहे हैं। मोहन ¨सह जिखन गांव, नबाव ¨सह भूतपुरा मांट ब्रांच की नहरों में पशुघाट न बनाकर पैसा को अफसर डकार गए। अवैध कुलाबों लगाने वालों के खिलाफ भी रिपोर्ट नहीं कराई जा रही है।

हाकिम ¨सह ककरेटिया, मनोज नरवार नौहझील बधार, चैनपुर, शाहपुर में पानी भरा हुआ। एहमल और अडींग रजवाह की सफाई नहीं कराई गई है। प्रशासन को अवगत करा दिया गया है।

हेमराज, जिला पंचायत सदस्य टेल तक पानी पहुंच रहा है। नालों की सफाई का रिकार्ड भी नहीं दे रहे हैं। हजारों एकड़ फसल डूबी हुई है। शासन को मामले की जानकारी दे दी है।

सुधीर रावत, अध्यक्ष ¨सचाई बंधु नाले और नहरों की सफाई कराने की सूची बनाकर प्राथमिकता से कार्य कराने के लिए निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। लोअर खंड आगरा कैनाल के एई से स्पष्टीकरण मांगा है और न आने पर उनका एक दिन का वेतन काटने के आदेश दिए गए हैं।

रामनिवास, सीडीओ

Posted By: Jagran