संवाद सहयोगी, वृंदावन: ठा. राधाबल्लभ मंदिर में शनिवार को होली उत्सव मनाया गया। फूलों से सजे डोले में विराजित होकर आराध्य राधाबल्लभलाल जू ने दर्शन दिए, तो सेवायतों ने होली के पदों का गायन कर आराध्य को रिझाया। कोरोनाकाल में मंदिर में भक्तों का प्रवेश वर्जित है, लेकिन मंदिर में पुरुषोत्तम मास की परंपराएं निभाई जा रही हैं।

पुरुषोत्तम मास में मंदिरों में पूरे साल के पर्व-उत्सव मनाए जा रहे हैं। पुरुषोत्तम मास को पूरे साल से अलग महीना माना गया है। यही कारण है कि इस महीने को पूरे साल के तौर पर मनाया जाएगा। प्राचीन राधाबल्लभलाल मंदिर में भी शनिवार को पुरुषोत्तम मास की होली मनाई गई। सुबह ठाकुरजी को होली के फूलडोला में विराजमान कर सेवायतों ने आरती उतारी। मंदिर में सेवायतों ने समाज गायन में होली के पद गाए। ठाकुरजी के गालों पर गुलाल लगाया, तो होली सा उल्लास छा गया। हालांकि, पुरुषोत्तम मास में होली का वह आनंद नहीं होता, जो फाल्गुन की होली का आनंद मंदिर में होता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस