कोसीकलां(मथुरा), संसू। प्रदेश के पशु पालन एवं दुग्ध विकास मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण ने कहा कि खारे पानी में किसान अन्य मछली के अलावा झींगा मछली का भी पालन कर सकते हैं। यह किसान को बेहतर आमदनी देगा और रोजगार का साधन बनेगा। खारे पानी से बेकार पड़े खेतों में इसका दो बार पालन किया जा सकता है। इन योजनाओं को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार भी किसानों के लिए योजनाएं चला रही हैं।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि मत्स्य पालन की योजनाएं बेहद कारगर हैं। जिले की करीब 10 हजार हेक्टेयर भूमि खारे पानी की समस्या से प्रभावित होकर बेकार पड़ी है, लेकिन इसमें किसान खारे पानी की मछली व झींगा पालन कर सकते हैं। बेहतर बात यह है कि फसल वर्ष में दो बार पालन किया जा सकता है। मंत्री ने संतोष कुमार तरौली, सुमाली, उमेश रामनगर, पन्नालाल फरह, समशू हाथिया, गुल्ला फरह, खालिद हाथिया को केसीसी ऋण स्वीकृति पत्र वितरित किए। नरदेव चौधरी, मनोज फौजदार, राजवीर सिंह, कर्मवीर सिंह, निदेशक मत्स्य एमके सिंह, एमडी अंजना, सीजीएम राजेंद्र सिंह, डीडी मत्स्य, पुनीत कुमार मौजूद रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस