मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, मथुरा: वन विभाग की क्लीयरेंस न मिलने से गोवर्धन मार्ग की दयनीय स्थिति हो रही है। सतोहा से लेकर गोवर्धन में प्रवेश तक बड़े-बड़े गड्ढे आए दिन दुर्घटनाएं करा रहे हैं। इस मार्ग पर दोपहिया और टेंपो पलटने से चुटैल होने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है।

गोवर्धन चौराहे से लेकर नए बने रोड से पहले तक तो सड़क जर्जर हो ही चुकी है। आगे सतोहा से लेकर गोवर्धन में प्रवेश तक भी सड़क में भारी गड्ढे हो चुके हैं। यह पूरा मार्ग फोर लेन किया जाना है, जिसके लिए बजट भी स्वीकृत हो चुका है। वन विभाग में क्लीयरेंस लंबित चल रही है। सार्वजनिकलोक निर्माण विभाग शहरी क्षेत्र में दो माह पहले मरम्मत व नई सड़क का काम करा रहा था। ताकि आवागमन सुचारू हो सके, लेकिन वन विभाग क्लीयरेंस मिले बिना निर्माण कार्य कराए जाने से इतना कुपित हुआ कि उसने लोनिवि की जेसीबी जब्त कर ली और निर्माण का अन्य सामान भी ले गए।

लोक निर्माण विभाग अधिकारियों का कहना है कि जिलाधिकारी की उपस्थिति में वन विभाग शहरी क्षेत्र में सड़क ठीक कराए जाने को राजी हो गया था, लेकिन उसकी कार्रवाई के बाद से ही काम बंद पड़ा है और सड़क पर लोगों का चलना दूभर बना हुआ है। लोनिवि प्रांतीय खंड के सहायक अभियंता बीसी मिश्रा का कहना है कि क्लीयरेंस मिलने के बाद ही निर्माण कार्य शुरू हो पाएगा। इनसेट

138 करोड़ का फोर लेन

मथुरा: मथुरा से गोवर्धन में डीग चौराहा तक का मार्ग फोर लेन किया जाना है। शासन ने इसके लिए 138 करोड़ का एस्टीमेट स्वीकृत किया हुआ है, लेकिन इस मार्ग पर करीब 12 हजार पेड़ आ रहे हैं, जिनमें से अधिकांश काटे जाने हैं। इसकी अनुमति लोनिवि ने वन विभाग से मांगी है, जो अब तक नहीं मिली है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप