जागरण टीम, मथुरा: जिले में बुखार के मरीजों की संख्या में कमी दर्ज नहीं हो रही है। गांव से लेकर शहर तक बुखार और डेंगू मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। जिला कारागार के कैदी समेत आठ डेंगू मरीजों की पुष्टि हुई है। कैदी को जिला अस्पताल में भर्ती किया है। मांट में एक बच्ची की मौत हो गई है। दस मरीज डिस्चार्ज किए गए हैं।

शनिवार को मांट के गांव नगला बरी स्थित ननिहाल में आई डेढ़ वर्षीय बच्ची की बुखार की चपेट में आने से मौत हो गई। सुरीर के गांव मोदीपुर निवासी बनी सिंह की पत्नी अनीता अपनी डेढ़ वर्षीय बेटी आयुषी को लेकर मायके गांव नगला बरी (जावरा) घूमने गई थी। जहां उनकी बेटी बुखार की चपेट में आ गई। निजी चिकित्सक से दवा ली, लेकिन उसे कोई लाभ नहीं मिला और बच्ची की मौत हो गई। वहीं फरह क्षेत्र में तैनात एक पुलिसकर्मी को पिछले दिनों जेल भेजा गया था, जहां उसकी तबीयत खराब हुई। जांच करने पर उसके डेंगू की पुष्टि हुई है। जिसे जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। इसके अलावा शहर में आठ डेंगू मरीजों की पुष्टि हुई है। इनमें शहर से लेकर अलग-अलग गांव के मरीज शामिल हैं। वहीं दस बच्चे डिस्चार्ज किए गए हैं। नोडल अधिकारी डा. भूदेव ने बताया कि शहर के सिविल लाइन, जेल, चौबियापाड़ा आदि क्षेत्रों में एंटी लार्वा का छिड़काव कराया गया है। मनोहरपुरा और द्वारिकेश में बुखार की सूचना पर टीम भेजी गई है। जहां घर-घर में सर्वे कर मरीजों का ब्लड सैंपल लिया गया है। सीएमओ डा. रचना गुप्ता ने बताया कि जिले में अब तक कुल 448 डेंगू मरीजों की पुष्टि हुई है। जिनमें से 430 मरीज पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि एसीएमओ डा. दिलीप कुमार ने नगला धाना तेजा के तहत भगवती नगर का भ्रमण किया।

Edited By: Jagran