सौंख(मथुरा), संसू। प्रशासनिक उपेक्षा के चलते नगर पंचायत सौंख को कूड़ा निस्तारण को जमीन नहीं मिल पा रही है। इसके कारण कर्मचारी सड़क के किनारे कूड़ा डालने को बाध्य हैं। रास्ते से गुजरने वाले राहगीरों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। संक्रामक रोग फैलने की आशंका भी बनी हुई है।

स्वच्छता अभियान को गति देने और घरों से निकलने वाले कूड़े के निस्तारण के लिए करीब दो वर्ष पहले शासन से नगर पंचायत स्तर पर डंपिग ग्राउंड बनाने के निर्देश मिले थे। इसे लेकर नगर पंचायत स्तर पर प्रयास भी किए गए, लेकिन पर्याप्त जमीन के अभाव में डंपिग ग्राउंड की कार्य योजना सिरे न चढ़ सकी। कोशिश के बाद भी कस्बा में कूड़ा निस्तारण के लिए कोई जमीन तय नहीं हो पाई। नगर पंचायत द्वारा समय-समय पर उप जिलाधिकारी गोवर्धन को इस बात से अवगत कराया गया, लेकिन राजस्व विभाग की टीम की निष्क्रियता के चलते अभी तक डंपिग ग्राउंड को जमीन की पैमाइश नहीं हो पाई। इसी के चलते नगर पंचायत कर्मचारी कूड़े को गोवर्धन ड्रेन के पास या सौंख-गोवर्धन रोड पर सड़क के किनारे डालने को बाध्य हैं। इससे सड़क के आसपास गंदगी की स्थिति बनी रहती है। प्रशासनिक उपेक्षा के चलते इस दिशा में कोई प्रगति नहीं हो पाई है। इस बारे में नगर पंचायत अध्यक्ष भरत सिंह कुंतल ने बताया कि नगर पंचायत के पास कूड़ा निस्तारण की कोई जमीन निर्धारित नहीं है। इसे लेकर कई बार प्रशासनिक अधिकारियों को भी अवगत करा दिया गया है। भूराजस्व विभाग की टीम ने अभी तक इस दिशा में कोई कार्य योजना तैयार नहीं की है। इसी के चलते कर्मचारी कस्बा से दूर खाली जगह में कूड़ा डाल कर गंदगी का निस्तारण कर रहे हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप