जागरण संवाददाता, मथुरा: संसद में शून्यकाल के दौरान मथुरा की सांसद ने गोवर्धन पर्वत का मुद्दा उठाकर गोवर्धन पर्वत के संरक्षण और विकास का मुद्दा उठाया। कहा कि गिरिराजजी का सात कोसीय परिक्रमा मार्ग दो राज्यों उत्तर प्रदेश-राजस्थान की सीमा के अंतर्गत आता है। इसलिए एकीकृत विकास के लिए केंद्र सरकार से'श्री गोवर्धन जी विकास न्यास' बनाकर विकास कराने का आग्रह किया।

उन्होंने संसद में कहा कि गोवर्धन जी धाम में श्री गिरिराज पर्वत हैं, जिनको ब्रज का तिलक भी संतों द्वारा कहा गया है। 21 किमी की पर्वत की परिक्रमा करने करोड़ों श्रद्धालु हर साल आते हैं। उन्होंने कहा कि गोवर्धन में 60 -70 वर्ष पहले 370 वाटर बॉडीज थीं। वह सब प्राय: लुप्त हो गई हैं या लुप्त होने की कगार पर हैं। उन पर भूमाफिया का कब्जा है। वहां गो-घाट होते थे, गहन वृक्षावली, मोर, तोते, कोयल आदि पक्षियों के विहार की व्यवस्था होती थी। सभी कुंडों पर लगभग गोघाट समाप्त कर दिए गए हैं, वृक्षावली को तहस-नहस कर दिया गया है। रेन वाटर रिचार्ज की भी व्यवस्था खत्म कर दी गई है। मानसी गंगा, राधाकुंड, कुसुम सरोवर का जल आचमन योग्य नहीं है। उन्होंने कहा कि जैसे वृंदावन,मथुरा की परिक्रमा नष्ट हो गई है, उसी प्रकार गोवर्धन की परिक्रमा को कब्जा कर नष्ट करने का कुत्सित प्रयास चल रहा है। भक्तों के लिए शौचालय और कूड़ा निस्तारण की व्यवस्था नहीं है। उन्होंने कहा कि गोवर्धन जी के विकास के लिए अगले 100 वर्षों को ध्यान में रखकर विश्वस्तरीय सुविधा उपलब्ध कराई जाए। एकीकृत विकास होना बहुत जरूरी है। उन्होंने गोवर्धन के संपूर्ण विकास के लिए न्यास, बोर्ड या परिषद का गठन कर गिरिराज जी का विकास केंद्र सरकार से उसकी निगरानी में कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश और राजस्थान में गोवर्धन होने के कारण केंद्र सरकार को पहल कर श्री गोवर्धन जी विकास न्यास का गठन कर गोवर्धन जी को तिरुपति बाला जी, वैष्णो देवी, स्वर्ण मंदिर की तरह सुंदर बनवाने की व्यवस्था करनी चाहिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस