जागरण संवाददाता, वृंदावन: ठा. बांकेबिहारी मंदिर में सेवायत की मनमानी के चलते मंदिर का पुराना भवन खतरे में पड़ गई है। शुक्रवार की सुबह मंदिर में जलभराव कर नौका विहार की झांकी सजाना मंदिर के भवन के लिए खतरा पैदा कर गई। जलभराव के चलते दूसरे दिन तक मंदिर की दीवारों से पानी रिसता हुआ दिखाई दिया। जिसके कारण मंदिर की सुरक्षा को भी खतरा पैदा हो गया है।

मनमानी पर उतारू सेवायत की हठधर्मिता पर अंकुश लगाने में अब तक मंदिर प्रबंधन कामयाबी हासिल नहीं कर सका है। जब भी इस सेवायत की सेवा आती है अपने कारनामों के चलते मंदिर की प्रतिष्ठा को धूल में मिलाता नजर आता है।

ठा. बांकेबिहारी मंदिर में शुक्रवार की सुबह राजभोग सेवाधिकारी आनंदकिशोर गोस्वामी ने अपनी सेवा के दौरान ठाकुरजी के गर्भगृह में जलभराव करके नौकाविहार की झांकी सजाई थी। जिसका खामियाजा मंदिर की पुरानी हो चुकी बि¨ल्डग को उठाना पड़ रहा है। शुक्रवार की शाम से लेकर शनिवार की सुबह तक मंदिर की दीवारों से पानी रिस रहा था। मंदिर की परिक्रमा में लगी नालियों के अलावा दीवार से आ रहे पानी ने खतरा पैदा कर दिया है। मंदिर प्रबंधन से जब इस बारे में बात की गई तो बताया कि पूरे मामले पर नजर रखी जा रही है। मामले को लेकर गंभीर हुआ प्रबंधन अब कड़े कदम उठाने की तैयारी कर रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस