सुरीर (मथुरा): ईट भट्ठे पर काम करने जा रहे बुग्गी चालक को सोमवार की रात एक्सप्रेस वे के पास से बोलेरो सवार उठा ले गए। वहीं मंगलवार की देर शाम बोलेरो सवार हाथ-पैर बांध कर चालक को वहीं फेंक गए। चालक ने अपहरण किए जाने की बात बताई है। हालांकि उसकी कहानी पुलिस के गले नहीं उतर रही है।

गांव भिदौनी निवासी साहब ¨सह सुरीर में आरपीएस भट्ठे पर बैल-बुग्गी से ईंटों की भराई का काम करता है। सोमवार रात वह बुग्गी लेकर भट्ठे पर काम करने निकला। उसका बेटा विशाल खाना देने गया तो पता चला कि पिता काम पर नहीं आए हैं। इस पर परिजनों ने तलाश की। एक स्थान पर बुग्गी खड़ी मिल गई लेकिन साहब ¨सह का पता नहीं चला।

इधर मंगलवार की देर शाम पुलिस और परिजनों को चालक के एक्सप्रेस वे के समीप बंधा पड़े होने की जानकारी मिली। पुलिस ने पूछताछ की तो उसने बोलेरो सवारों द्वारा अपहरण कर ले जाने एवं हाथ पैर बांध कर फेंक जाने की बात बताई।

साहब ¨सह ने बताया की बोलेरो सवार परिजन एवं किसी रिश्तेदार का मोबाइल नंबर बताने को दबाव दे रहे थे लेकिन उसे कोई नंबर याद नहीं था। दिनभर आंख पर पट्टी बांधकर रखने के बाद अंधेरा होने पर उसे वहीं छोड़कर भाग गए। इंस्पेक्टर बीएन ¨सह का कहना है कि बुग्गी चालक का अपहरण और वहीं छोड़ जाने की कहानी गले नहीं उतर रही है। मामले की गहराई से पड़ताल की जा रही है।

-----------

किसी के धोखे में तो नहीं उठाया

बुग्गी चालक के अपहरण पर सवाल ये उठ रहा है कि एक मजदूर को बदमाश क्यों उठा ले गए और फिर छोड़ गए। बदमाशों का कोई और तो निशाना नहीं था। जिसके धोखे में बुग्गी चालक को उठा ले गए हों।

Posted By: Jagran