जागरण संवाददाता, मथुरा (वृंदावन): संगीत सम्राट स्वामी हरिदास जी के प्रथम शिष्य विट्ठल विपुल देव जी सबसे पहले ठा. बांके बिहारी के दर्शन गुरु के आदेश पर पाए थे। बिहार पंचमी के दिन स्वामी जी की संगीत साधना से प्रसन्न होकर ठाकुरजी प्रकट हुए। उनका प्राकट्योत्सव बिहार पंचमी पर धूमधाम से मनाया गया।

राजपुर स्थित राधा बाबड़ी में विट्ठल विपुल देव महाराज का प्राकट्योत्सव दिवस मनाया गया। इस अवसर पर समाज गायन लड़ैतीशरण महाराज की देखरेख में किया गया। इसके बाद कीर्तन हुआ, जिसमें सैकड़ों संतों और भक्तों ने भाग लिया। इसके बाद बधाई महोत्सव मनाया गया। सोहनी शरण, बाबा मदन बिहारी, बिहारी दास मौनी बाबा, ब्रजेश दास, गो¨वद दास, आचार्य नरेश नारायण, विजय चंद चौबे, राम किशोर बघेल, भूपेंद्र ¨सह, नवनीत अग्रवाल, गोपाल दास, जयदेव दास, कन्हैया, मुरलीधर प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप