जासं, मैनपुरी: युवती की हत्या करने के बाद आरोपित अजब सिंह बाइक पर सवार होकर फरार हो गया। पुलिस के अनुसार, सौरिख के समीप उसकी बाइक पंक्चर हो गई। यहा उसने बाइक को एक खोखे के पास खड़ी की और बस से वह बिल्लौर पहुंच गया। यहा उसने नानामऊ पुल पर अपना सिर दीवार में मारकर घायल करने के साथ ही शरीर में कई चोटें बना लीं और लोगों से सहायता मागने लगा। इसी बीच यहा से गुजर रहे कानपुर के दो युवकों ने अपनी बाइक रोक ली। आरोपित अजब सिंह ने उन्हें अपने अपहरण होने की जानकारी दी। दोनों युवकों ने खाना खिलाने के बाद उसे अस्पताल पहुंचाया और उसके रिश्तेदारों को सूचना दी। रिश्तेदार मौके पर पहुंचे और आरोपित को रेफर कराकर तिर्वा अस्पताल ले आए। गुरुवार को आरोपित के ससुरालीजन उसे अपने साथ ले गए, जहा से पुलिस ने उसे अपनी हिरासत में ले लिया। पुलिस हिरासत में अजब सिंह ने बताया कि युवती के स्वजन को उसकी और युवती के बीच दोस्ती की जानकारी हो गई थी। इसलिए स्वजन ने ही युवती की हत्या करने बाद उसे मारपीट कर एक मारुति वैन में डालकर अगवा कर लिया था।

बिल्लौर के पास वह किसी प्रकार उनके चंगुल से बच निकला। लेकिन, पुलिस द्वारा सीसीटीवी खंगाले गए तो कोई मारुति वैन दिखाई नहीं दी। आरोपित का ब्यान भी विरोधाभासी निकला। नामजद आरोपितों ने ली राहत की सास एसपी का जताया आभार

रिपोर्ट दर्ज होने के बाद से ही नामजद आरोपित के स्वजन र्की ंचता बढ़ गई थी। पुलिस ने दोनों आरोपितों को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी तो उन्होंने खुद को निर्दोष बताया था। पुलिस ने घटना का राजफाश करने के बाद वास्तविक आरोपित को गिरफ्तार किया तो नामजद आरोपितों ने राहत की सास ली। नामजद आरोपितों के माता-पिता ने एसपी के पास पहुंच कर सही राजफाश करने के लिए आभार जताया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप